seminar-organized-on-immense-possibilities-of-industrial-development

औद्योगिक विकास की अपार संभावनाओं पर सेमीनार आयोजित

औद्योगिक विकास की अपार संभावनाओं पर सेमीनार आयोजित

  • पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव-2023
  • समन्वित प्रयासों और सरकार की योजनाओं की बदौलत सामने आएंगी आशातीत उपलब्धियां

जोधपुर,पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव-2023 में शनिवार को पश्चिमी राजस्थान में निवेश की संभावनाएं,मुख्यमंत्री लघु उद्यमी संभावनाएं,जोधपुर में मेडिकल डिवाइस उद्योग की संभावनाएं आदि विषयों पर केन्द्रित सेमिनार आयोजित किया गया। इसमें उद्योग हस्तशिल्प उत्सव संयोजक एवं रीको के स्वतंत्र निदेशक सुनील परिहार ने कहा कि रीको में एक समिति बनाई गई है जिसके अध्ययन के बाद स्टार्टअप, सर्विस इंडस्ट्री सहित तमाम प्रकार की इंडस्ट्रीज के उपयोग की दृष्टि से अध्ययन के बाद आवश्यक सहयोग का मार्ग प्रशस्त होगा।उन्होंने जिले के विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों की भी विस्तार से चर्चा करते हुए आवश्यकताओं पर प्रकाश डालते हुए व्यावहारिक समस्याओं के समाधानों पर महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए।

ये भी पढ़ें- रेलवे स्टेशन की नई इमारत की प्रतिकृति देख यात्री बोले ‘अमेजिंग’

जिला उद्योग एवं वाणिज्य केंद्र के महानिदेशक एसएल पालीवाल ने राजस्थान उद्योग रत्न पुरुस्कारों की योजना के आवेदन एवं पात्रता तथा विभिन्न क्षेत्रों में दिए जाने वाले पुरस्कारों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उपनिदेशक पूजा सुराणा ने गोष्ठी के विषयों पर पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन द्वारा विस्तार से प्रकाश डाला।

जेआईए के अध्यक्ष एनकेजैन ने मेडिकल डिवाइस इंडस्ट्री की विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि कोविड के समय में यहां की मेडिकल डिवाइस इंडस्ट्री की बड़ी भूमिका रही है। जोधपुर में मेडिकल डिवाइस पार्क की ग्रोथ की प्रगति पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने पार्क में उपयोगी डिवाइस की वैश्विक स्तर पर उपयुक्त पहुंच सुनिश्चित किए जाने से संबंधित कार्ययोजना पर जानकारी दी।

ये भी पढ़ें- मुख्यमंत्री गहलोत ने राजस्थान में 5G सर्विस सेवा का किया शुभारंभ

उद्योग आयुक्त महेंद्र पारख ने प्रदेश में औद्योगिक विकास की दृष्टि से प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं, रियायतों,प्रोत्साहन गतिविधियों आदि के बारे में बताया।उन्होंने उद्योग उत्सव के बेहतरीन आयोजन की प्रशंसा करते हुए यहां के लोगों के उद्योगों में भूमिका के सक्रिय योगदान को रेखांकित किया। उन्होंने बताया की राज्य में हम लोग ट्रस्ट बेस्ड गवर्नेंस की तरफ बढ़ रहे हैं। उन्होंने बताया की राज्य में 15 हजार से ज्यादा लोगों ने अभी तक उपयोग किया।

औद्योगिक विकास की अपार संभावनाओं को साकार करने की दिशा में हर स्तर पर प्रयास जारी हैं।
उन्होंने बताया कि जोधपुर में उद्योग स्थापना की राह प्रशस्त है तथा लगातार निवेश प्रोत्साहन किया जा रहा है। उन्होंने इस दिशा में प्रदान की जाने वाली सुविधाओं तथा किए जा रहे उपयोग पर भी प्रकाश डाला।

ये भी पढ़ें- पिस्टल और कारतूस के साथ युवक गिरफ्तार

उन्होंने बताया कि यहां की औद्योगिक योजनाओं के डिमांड के तहत 20 हजार लोगों ने उपयोग किया है। उन्होंने छोटे बड़े सभी लोन के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। पारख ने रिप्स के प्रमुख हाईलाइट्स भी बताए। इसके साथ ही उन्होंने उद्यमियों के सुझावों पर भी आवश्यक जानकारी दी। आयुक्त ने राज्य में हस्तशिल्प के महत्वपूर्ण उपयोग का विश्व स्तरीय केनवास की भी जानकारी दी।

एम्स डायरेक्टर कुलदीप सिंह ने मेडिकल डिवाइस के वैज्ञानिक उपयोग पर एम्स की सक्रिय भूमिका और क्रियान्वन की विस्तार से प्रकाश डाला।आईआईटी डायरेक्टर शांतनु चौधरी ने मेडिकल डिवाइस के तकनीकी मूल्यांकन पर किए जाने वाले विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने आईआईटी की विभिन्न मेडिकल डिवाइस संबंधी भूमिका पर भी विस्तार से चर्चा की। संचालन एम आईए के सचिव निलेश सांचे ने किया।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें- http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

Similar Posts