gdp-increased-due-to-successful-implementation-of-public-welfare-schemes-chief-minister

जनकल्याणकारी योजनाओं की सफल क्रियान्विति से बढ़ी जीडीपी- मुख्यमंत्री

  • पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव
  • राजस्थान में औद्योगिक विकास का सुनहरा सफर जारी
  • ‘विकासशील राजस्थान-उद्यमशील राजस्थान’’ थीम पर आयोजित उत्सव

जोधपुर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि जोधपुर सहित पूरे प्रदेश में उद्योग,शिक्षा,पानी,सड़क,स्वास्थ्य सहित सभी क्षेत्रों में सर्वार्गीण विकास हुआ है। यहां 33 साल पहले सूचना केंद्र में शुरू हस्तशिल्प उत्सव आज विशाल स्वरूप ले चुका है। जोधपुर में हुए विकास कार्यों,नवाचारों की झलक भी प्रदर्शनी में देखने को मिली है। उन्होंने कहा कि जोधपुर में देश की सभी बड़ी आईआईटी,निफ्ट,आयुर्वेद विश्विद्यालय सहित तमाम संस्थाएं एक साथ हैं,उतनी देश के किसी और शहर में नहीं है। गहलोत ने कहा कि प्रदेश के चहुमुंखी विकास में किसी भी तरह से कमी नहीं आने दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को रावण का चबूतरा मैदान में पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव का उद्घाटन कर समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। ‘विकासशील राजस्थान-उद्यमशील राजस्थान’ की मुख्य थीम पर केन्द्रित 33वां उत्सव 15 जनवरी तक चलेगा।

ये भी पढ़ें- जोधपुर-मथानिया बाईपास दुर्घटना के घायलों से मिले मुख्यमंत्री

gdp-increased-due-to-successful-implementation-of-public-welfare-schemes-chief-minister

गहलोत ने उत्सव में लगी प्रदर्शनी का अवलोकन करते हुए उत्पादों की जानकारी लेकर हस्तशिल्पियों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि जोधपुर में पहले रेलों से पानी लाया जाता था, आज यहां पानी की कमी नहीं है। यहां 65 करोड़ रुपए लागत से सभागार बन रहा है। 680 करोड़ रुपए लागत से फिनटेक इंस्टीट्यूट स्थापित हो रहा है। इन्दिरा गांधी लिफ्ट केनाल के तृतीय चरण में 1400 करोड़ रुपए की पेयजल योजना का काम हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में औद्योगिक विकास से लेकर हर तरह का विकास हुआ है। इससे विकास का सुनहरा स्वरूप सामने आया है। उन्होंने कहा कि लघु कुटीर उद्योग और हस्तशिल्प क्षेत्र से जुड़े कार्यों में जोधपुर ने देश-दुनिया में नाम कमाया है। एमएसएमई एक्ट के अन्तर्गत उद्योगों को रियायतें देने का क्रान्तिकारी काम किया है। हर दृष्टि से औद्योगिक विकास और प्रोत्साहन के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। इन नीतियों को देश में सराहा भी जा रहा है। उन्होंने कहा कि कम संसाधनों के बावजूद भी प्रदेश में हस्तशिल्प क्षेत्र ने प्रगति की है।

ये भी पढ़ें – जी-20 के लिए शहर को चमकाने में लगा जिला प्रशासन

gdp-increased-due-to-successful-implementation-of-public-welfare-schemes-chief-minister

गहलोत ने कहा कि औद्योगिक विकास की दृष्टि से राजस्थान का सुनहरा भविष्य है। इन्वेस्ट राजस्थान में 11 लाख करोड़ रुपए के एमओयू होने भी शुभ संकेत हैं। औद्योगिक इकाइयों का जाल बिछ रहा है। रिफाइनरी का काम हो रहा है। खजूर, अनार की खेती हो रही है। हर ब्लॉक में रीको के औद्योगिक क्षेत्रों का विकास हो रहा है। इससे इकाइयां बढ़ेंगी, रोजगार के अवसरों में अभिवृद्धि होगी। स्टार्टअप्स और आईटी से युवाओं को फायदा मिलेगा। दिल्ली-मुम्बई कॉरिडोर से व्यवसायियों को फायदा मिलेगा। आने वाले समय में रोहट में बहुत बड़ा औद्योगिक परिक्षेत्र विकसित होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान हैप्पीनेस इंडेक्स में आगे है। राज्य में जनकल्याणकारी योजनाओं और नीतियों के चलते जीडीपी ग्रोथ में भी राज्य देश में दूसरे नंबर पर आ गया है। उन्होंने कहा कि‘मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना’ में 10 लाख तक के निःशुल्क इलाज के प्रावधान से आमजन को राहत मिल रहा है। इसमें 5 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा भी शामिल है।

ये भी पढ़ें- अवैध गैस रिफ्लिंग करते तीन गिरफ्तार,24 सिलेण्डर जब्त

gdp-increased-due-to-successful-implementation-of-public-welfare-schemes-chief-minister

मुख्यमंत्री ने किया प्रदर्शनी का अवलोकन

गहलोत ने उत्सव में केन्द्रीय पांडाल, औद्योगिक प्रदर्शनी,विकास प्रदर्शनी, सी-वर्ल्ड,आदिदेव महादेव की प्रतिमा आदि का अवलोकन किया। उन्होंने प्रदर्शित उत्पादों व मॉडल्स आदि की जानकारी लेकर लोगों का हौसला बढ़ाया। आयोजन जोधपुर जिला प्रशासन,जिला उद्योग केन्द्र उद्यम प्रोत्साहन संस्थान,जयपुर तथा नोडल एजेन्सी मरुधरा इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन,जोधपुर के संयुक्त तत्वावधान में किया जा रहा है। इसमें लगभग 750 स्टॉल्स स्थापित हैं। इसमें देश के 18 राज्यों से 700 से अधिक हस्तशिल्पी हिस्सा ले रहे हैं।

प्रदेश में मैत्रीपूर्ण औद्योगिक विकास का माहौल

उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री शकुन्तला रावत ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा बेहतर और मैत्रीपूर्ण औद्योगिक विकास का माहौल बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। इसमें कोई कमी नहीं रखी जाएगी। प्रभारी मंत्री एवं तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि जोधपुर के उद्योग एवं हस्तशिल्प क्षेत्र की देश- दुनिया में अनूठी पहचान है। पूर्व शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि प्रदेश में ऐतिहासिक जन कल्याणकारी विकास कार्य हुए हैं। इन्हें जन-जन तक पहुंचाने के लिए अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें। उत्सव के संयोजक,रीको के स्वतंत्र निदेशक सुनील परिहार ने आयोजन के उद्देश्यों एवं गतिविधियों की विस्तार से जानकारी दी।

उत्सव में राजस्थान बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल,राजस्थान पशुधन विकास बोर्ड अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह सोलंकी, राजस्थान मेला प्राधिकरण उपाध्यक्ष रमेश बोराणा, राजस्थान संगीत नाटक अकादमी अध्यक्ष बिनाका जेश मालू, विधायक मनीषा पंवार, किसनाराम विश्नोई,हीराराम,महेन्द्र विश्नोई, महापौर कुन्ती देवड़ा,संभागीय आयुक्त कैलाश चन्द्र मीना,उद्योग आयुक्त महेन्द्र पारख,जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता सहित उद्यमी, हस्तशिल्पी,औद्योगिक जगत से जुड़े प्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें- http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews