the-dead-body-of-the-woman-found-in-the-sewer-was-not-identified

सीवर होदी में मिले महिला के शव की नहीं हुई शिनाख्त

  • हत्या कहीं और कर शव को डाला गया होदी में
  • प्रदेश भर से पुलिस जुटा रही गुमशुदा महिलाओं की जानकारी

जोधपुर,शहर के विवेक विहार थाना क्षेत्र में सीवर लाइन की सूखी होदी में मंगलवार को मिले महिला के शव की आज दूसरे दिन भी पहचान नहीं हो पाई। महिला की पहचान को लेकर राजस्थान भर में गुमशुदा महिलाओं की तस्दीक की जा रही है। ताकि कोई सुराग मिलने के साथ इस ब्लाइंड मर्डर का खुलासा हो सके। शव को अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है। एक दो दिन तक पहचान नहीं होने पर मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। फिलहाल पुलिस ब्लाइंड मर्डर के इस केस की गुत्थी में उलझी है। कई सीसीटीवी कैमरों को खंगाला जा रहा है ताकि आने जाने वाले वाहनों से पता लग सके।

ये भी पढ़ें- कांग्रेस ने 125 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा-गहलोत

थानाधिकारी दिलीप खदाव ने बताया कि महिला के शव की पहचान के प्रयास जारी हैं। हत्या कहीं और कर शव को वहां सूने स्थान डी सेक्टर विवेेक विहार में सीवर की होदी में डाला गया है। महिला के संबंध में प्रदेश भर के थानों में गुमशुदा महिलाओं के बारे में जानकारी जुटाने के प्रयास कर पता लगाया जा रहा है। हालांकि कुछ लोग आज थाने पर आए थे मगर पहचान लायक सुराग हाथ नहीं लगा।

सनद रहे कि मंगलवार की सुबह विवेक विहार योजना के सेक्टर डी में सीवर लाइन की सूखी होदी में एक महिला का शव मिला था, जो सप्ताह भर पुराना प्रतीत हुआ है। पहचान छुपाने के इरादे से चेहरे पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर जलाया गया है जो तेजाब हो सकता है। शरीर पर कपड़े भी अस्त व्यस्त मिले है। यह भी आशंका है कि महिला से दुष्कर्म हुआ हो। पुलिस एक दो दिन और शव की पहचान नहीं होने पर उसका मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवा कर हिंदू सेवा मंडल को सौंप सकती है।

ये भी पढ़ें- लंबे समय से फरार स्थाई वारंटी गिरफ्तार

बच्चे की बॉडी को लेकर भी पुलिस कर रही जांच

पुलिस महिला के शव को लेकर हालांकि स्पष्ट है कि उसका बच्चे की शव से कोई कनेक्शन नहीं है। मगर फिर भी पुलिस इसमें भी संभावना तलाशने की कोशिश कर रही है। यह भी ज्ञात हो कि कुछ दिनों पहले विवेक विहार में ही के सेक्टर में एक बच्चे का शव नग्न हालत में कटा हुआ मिला था। उसकी भी पहचान नहीं हो पाई है। बच्चे का धड़ वाला हिस्सा गायब था। जिसके लिए भी पुलिस प्रयासरत है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें-http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews