नाबालिग को ढूंढने के लिए पुलिस ने लिए 15 हजार

नाबालिग को ढूंढने के लिए पुलिस ने लिए 15 हजार

  • पुलिस आयुक्त को शिकायत के बाद केस दर्ज
  • पिता ने युवक पर बेटी को बंदी बनाने का लगाया आरोप

जोधपुर,नाबालिग को ढूंढने के लिए पुलिस ने लिए 15 हजार। शहर में नाबालिग बेटी की तलाश के लिए पुलिस ने एक पिता से 15 हजार रुपए ले लिए। पुलिसकर्मी ने पिता को कहा कि वे उसकी बेटी को जल्द तलाश कर लेकर आएंगे। पिता कई दिनों तक थाने के चक्कर काटता रहा लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया। अब पिता पुलिस आयुक्त के पास गया और पूरे मामले का खुलासा हुआ। पुलिस कमिश्नर के संज्ञान में आने के बाद अब मामला दर्ज हुआ है।माता का थान थाना क्षेत्र से मजदूर की बेटी को एक युवक भगाकर ले गया था। पुलिस थाने में तैनात पुलिसकर्मी एक ने पीडि़त पिता से मदद के नाम पर 15 हजार रुपए ले लिए और कहा कि लडक़ी को जल्द ढूंढकर आपको सुपुर्द कर दूंगा। कई दिनों तक चक्कर काटने के बावजूद भी नाबालिग का सुराग नहीं लगा। पुलिस ने मामला भी दर्ज नहीं किया। पीडि़त पुलिस आयुक्त्त कार्यालय पहुंचा और शिकायत दी। इसके आधार पर थाने में मामला दर्ज हुआ है।

यह भी पढ़ें – बदमाशों ने युवक से मारपीट कर मोबाइल नगदी लूटी

बेटी घर से रुपए और मोबाइल ले गई
रिपोर्ट में पीडि़त ने बताया कि उसकी नाबालिग बेटी को आरोपी असलम निवासी बोरवा तहसील भीम जिला राजसमंद शादी करने की नीयत से बहला-फुसलाकर कर 31 अक्टूबर को घर से भगाकर ले गया। वह अपनी पत्नी के साथ मजदूरी करने घर से बाहर थे। ऐसे मेें मौके का फायदा उठाकर आरोपी उसकी नाबालिग बेटी को भगाकर ले गया। इस दौरान उसकी बेटी घर से 10 हजार रुपए और मोबाइल फोन भी लेकर चली गई।

यह भी पढ़ें – जेल से दी दुष्कर्म पीड़िता को फिर से गैंग रेप और बच्चे के जान की धमकी

कांस्टेबल पर रुपए लिए जाने का आरोप
घर पहुंचने पर बेटी के गायब होने का पता चला तो उन्होंने थाने पहुंच कर रिपोर्ट दी। यहां पर पुलिस थाने में तैनात एक पुलिसकर्मी ने उससे 15 हजार रुपए ले लिए और उसकी बेटी को जल्दी ढूंढ कर लाने का वादा किया लेकिन कई दिनों तक चक्कर काटने के बावजूद उनकी बेटी वापस नहीं आई और न ही आरोपी के खिलाफ पुलिस ने कोई कार्रवाई की।

यह भी पढ़ें – सात हजार का डीजल भरवाकर भागे बोलेरो सवार

बेटी को जान का खतरा,बंदी बनाने का आरोप
पीडि़त ने आरोप लगाया कि उसकी नाबालिग बेटी को असलम ने बंदी बना कर रखा है और उसकी बेटी को जान का खतरा भी है।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

 

Similar Posts