husband-in-custody-on-suspicious-death-of-woman-pihar-sides-protest-till-afternoon

महिला की संदिग्ध मौत पर पति हिरासत में,पीहर पक्ष का दोपहर तक चला धरना

  • सास ससुर को गिरफ्तार करने की मांग
  • मेडिकल बोर्ड से कराया गया पोस्टमार्टम

जोधपुर,संदिग्ध हालात में अस्पताल लाकर भर्ती करवाया गया विवाहिता की बुधवार को मौत हो गई। पीहर पक्ष ने दहेज हत्या एवं हत्या किए जाने की आशंका में पुलिस में रिपोर्ट दी। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उसके पति को हिरासत में ले लिया। मगर मृतका के पीहर पक्ष के लोग सास ससुर को गिरफ्तारी की मांग पर भी अड़े रहे। गुरुवार दोपहर तक अस्पताल में गहमाहमी का माहौल बना रहा। शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया। जिले की महिला थाना ग्रामीण पुलिस की तरफ से तफ्तीश की जा रही है।

ये भी पढ़ें- जेडीए ठेकेदार से लूट डकैती के एक आरोपी को सीकर से पकड़ लाई पुलिस

husband-in-custody-on-suspicious-death-of-woman-pihar-sides-protest-till-afternoon

दहेज प्रताडऩ़ा की शिकार बनी मीनक्षी ने 18 दिन जिन्दगी और मौत से संर्घष के बाद आखिर बुधवार की दोपहर को एमडीएम अस्पताल की आईसीयू में दम तोड़ दिया था। मृतका के पिता की रिपोर्ट पर ग्रामीण जिले की महिला थाना पुलिस ने दहेज प्रताडऩा और हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर आज एमडीएम अस्पताल में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम की कार्रवाई शुरू की, लेकिन परिजन और समाज बन्धु इस मामले में मीनाक्षी की मौत के बाद घर पर ताला लगा कर फरार हुए सास ससुर की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े रहे।

महिला थाना ग्रामीण थानाधिकारी लीला ने बताया कि महिला थाने में गत माह 23 नवंबर को दर्ज करायी रिपोर्ट में पावटा सी रोड लक्ष्मीनगर निवासी हरीशचन्द्र सांखी पुत्र स्व. लालचंद सांखी ने पुलिस को बताया कि उन्होंने अपनी पुत्री मीनाक्षी का विवाह मूलत: जाजीवाल खिचियान हाल पीपाड़ सिटी निवासी भीखमचंद जाजड़ा के पुत्र हरीश जाजड़ा के साथ 11 दिसंबर 2009 को किया और अपनी हैसियत से बढकऱ दहेज में नकदी, जेवरात, घरेलू सामान और सीखें दी।

ये भी पढ़ें- तीन बीएलओ को 17 सीसी में चार्ज शीट जारी

12 वर्ष के वेैवाहिक जीवन के बीच उसकी बेटी के एक पुत्री झलक और पुत्र जागृत भी पैदा हुए। पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया कि शादी के कुछ समय बाद ही उसकी पुत्री मीनाक्षी को पति हरीश,सास और ससुर परेशान करने लगे और उसको पीहर पक्ष से दहेज कम लाने का ताना मारते रहे। इस बीच कई बार उसके साथ शारीरिक और मानसिक अत्याचार किये और मारपीट भी की। आरोप है कि ससुराल वालों ने 19 नवंबर की रात्रि को मीनाक्षी को जान से मारने की नीयत से जहर पिला दिया।

मृतका के पिता ने बताया कि जहर पिलाने के बाद उन्होंने बचाने का नाटक भी किया और पहले पीपाड़ अस्पताल और वहां से एमडीएम अस्पताल के लिये रैफर करने पर भी बनाड़ रोड पर स्थित निजी अस्पताल लेकर पहुंचे। वहां से एमडीएम अस्पताल के लिये रैफर करने पर वहां नहीं ले जाकर घर पर लेकर गए। 20 नवंबर की सुबह पीहर पक्ष को सूचना मिली तो वे अपने रिश्तेदारों के साथ मीनाक्षी के ससुराल पहुंचे और किसी प्रकार मीनाक्षी को वहां से लेकर एमडीएम अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया जहां पर 18 दिन तक जिन्दगी और मौत के बीच संघर्ष के बाद उसने बुधवार को दम तोड़ दिया।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews