दो सिर लेकर घूम रहे मरीज को ऑपरेशन कर दी राहत

दो सिर लेकर घूम रहे मरीज को ऑपरेशन कर दी राहत

जोधपुर,मथुरादास माथुर अस्पताल के सर्जिकल आउटडोर में सह आचार्य एवं यूनिट प्रभारी डॉ.दिनेश दत्त शर्मा के पास 39 वर्षीय युवक जो पिछले 15 सालों से सिर के पीछे गुदी में सिर के बराबर साइज की गांठ के साथ भर्ती हुआ। जांच में पता लगा कि शुरुआत में यह गांठ छोटी थी पर धीरे-धीरे इस गांठ ने सिर के बराबर पीछे की ओर एक और सिर जितना आकर ले लिया था। इस सिर के आकार की गांठ की साइज लगभग 20×15 ×15 सेंटीमीटर थी। जैसे-जैसे इस गांठ का आकार बढ़ा मरीज गरदन में दर्द और हाथों में सूनापन की शिकायत से भी पीड़ित रहने लगा,मरीज को चलने में भी दिक्कत होती थी,मरीज को नींद लेने में भी समस्या रहती थी। गांठ की वजह से शारीरिक विकृति होने पर भी मरीज परेशान एवं अवसाद में रहता था। शुरुआत में मरीज झाड़ू फुंक एवं भोपौ के चक्कर में काफी समय लगाने के बाद में जब मरीज को राहत नहीं मिली तो एहसास हुआ कि अब डॉकटर के पास ही चलना चाहिए तब वह एमडीएम के सर्जिकल आउटडोर में आया।

यह भी पढ़ें – समाधिस्थल पर लगे भेंट पात्र को तोड़कर नगदी चुराई

डॉ.दिनेश दत्त शर्मा ने बताया कि
मरीज की जांच करने पर पता लगा कि मरीज के गरदन के पीछे एक विशेष प्रकार का ट्यूमर जिसे मिजेन्काईमल ट्यूमर कहा जाता है, वह है। यह ट्यूमर धीरे-धीरे इतना बड़ा हो गया था कि इसने स्कल (खोपड़ी) की आउटर टेबल को भी नष्ट करना शुरू कर दिया था और इनर टेबल तक पहुंच चुका था। दबाव की वजह से इस गांठ ने ओसिपिटल बोन को भी 4 सेंटीमीटर तक नष्ट कर दिया था।
इस प्रकार का ऑपरेशन काफी चैलेंजिंग होता है क्योंकि ब्लड सप्लाई अत्यधिक होती है साथ ही इस प्रकार की गांठ दिमाग से भी चिपक जाती है जिससे अलग करना काफी मुश्किल होता है।डॉ.दिनेश दत्त शर्मा एवं उनकी टीम ने इस कार्य को बहुत ही सफलता के साथ अंजाम दिया और इस गांठ को निकाल कर मरीज को राहत प्रदान की।

यह भी पढ़ें – पत्रकारों को मुवावजे की मांग को लेकर दिया ज्ञापन

ऑपरेशन करने वाली टीम में युनिट प्रभारी डॉ.दिनेश दत्त शर्मा के साथ डॉ.अंशुल,डॉ.राकेश एवं बेहोशी की टीम में डॉ.गीता सिंगारिया के साथ डॉ.गायत्री तंवर,डॉ.दिनेश,डॉ.आभास इत्यादि थे तथा नर्सिंग टीम में वरुण विकास के साथ रेखा पंवार,समेर सिंह राजपुरोहित एवं वीरेंद्र पुरी का योगदान रहा।अब युवक पूर्ण रूप से स्वस्थ है और मरीज को गरदन में दर्द तथा हाथों में सूनापन में भी राहत मिली है साथ ही वह आराम से सो पा रहा एवं चल पा रहा है। एमडीएम अधीक्षक डॉ.नवीन किशोरीया ने बताया कि मरीज का उक्त ऑपरेशन मुख्यमंत्री आयुष्मान आरोग्य योजना के तहत निःशुल्क हुआ है। एमडीएम में इस प्रकार की जटिल सर्जरी लगातार हो रही है। प्राचार्य एवं नियंत्रक डॉ.एसएन मेडिकल कॉलेज, जोधपुर डॉ.रन्जना देसाई ने भी ऑपरेशन करने वाली टीम को बधाई दी है।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

Similar Posts