आने वाले पांच वर्षों में रेलवे की माल लदान की क्षमता तिगुनी होगी -डीआरएम

आने वाले पांच वर्षों में रेलवे की माल लदान की क्षमता तिगुनी होगी -डीआरएम

  • मिशन 3000 एमटी के लक्ष्य पर रहेगा फोकस
  • जोधपुर मंडल के रेलवे व्यापारियों की बैठक सम्पन्न
  • रेलवे ने दिलाया मूलभूत सुविधाएं जुटाने का भरोसा

जोधपुर, मंडल रेल प्रबंधक गीतिका पांडेय ने देश के विकास में योगदान की दृष्टि से व्यापारियों का रेलवे के माध्यम से अधिकाधिक माल लदान करने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि रेलवे बोर्ड द्वारा निर्धारित अधिक माल लदान का लक्ष्य प्राप्त करने हेतु रेलवे और व्यापारियों को समन्वित रूप से प्रयास करने होंगे।

पांडेय ने शुक्रवार को यहां मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय सभागार में जोधपुर मंडल के ग्राहकों व व्यापारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि माल लदान के क्षेत्र में उत्तर- पश्चिम रेलवे के जोधपुर मंडल का देशभर में महत्वपूर्ण योगदान रहता है तथा इसे और अधिक आगे बढ़ाने के लिए मंडल के व्यापारियों से बहुत अपेक्षाएं हैं।

उन्होंने कहा कि उपलब्ध संसाधनों का कुशलता से उपयोग करते हुए अब अधिकतम यातायात का लदान करना होगा इसे देखते हुए रेलवे ने वर्ष 2027 तक संपूर्ण रेलवे की वर्तमान रेलवे क्षमता को एक हजार मिलियन टन से बढ़ाकर तीन हजार मिलियन टन करने की योजना पर काम करना शुरू कर दिया है। जिसके लिए मंडलों से सुझाव प्रस्ताव व इस लक्ष्य को हासिल करने की योजना मांगी गई है।

जोधपुर मंडल का योगदान बढ़ा

उन्होंने बताया कि जोधपुर मंडल पर वर्तमान में 7.27 मिलियन टन यातायात का लदान किया जा रहा है जिसे वर्ष 2027 में तीन गुना बढ़ाते हुए 25 मिलियन टन तक बढ़ाने की योजना है जिसके लिए आधारभूत सुविधाओं का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मिशन तीन हजार मिलियन टन की रेलवे की योजना को सफल बनाने में व्यापारियों की ही भूमिका सबसे महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर उन्होंने रेलवे बोर्ड द्वारा जारी नवीन मालभाड़ा प्रोत्साहन योजनाओं और उत्तर-पश्चिम रेलवे द्वारा माल परिवहन को सुगम बनाने के प्रयासों से मालभाड़ा व्यापारियों को अवगत कराया एवं उनके द्वारा सुझाए गए उपायों वह मुद्दों पर गंभीरता और सहानुभूति पूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया।

गति-शक्ति नीति के तहत लदान का सुझाव

बैठक में उन्होंने रेलवे द्वारा प्रधानमंत्री की गति शक्ति मिशन नीति के तहत जोधपुर मंडल के केरला के पास नायरा एनर्जी व मारवाड़ मूंडवा में अम्बुजा सीमेंट के कार्गो टर्मिनल साइडिंग के विकास की जानकारी दी तथा व्यापारियों को गति शक्ति नीति माध्यम से लदान को बढ़ावा देने के लिए प्रेरित किया। इसके साथ ही उन्होंने बिजनस डवलपमेंट यूनिट तथा ब्राउनफील्ड गुड्स टर्मिनल की सुविधा पर भी विस्तार से प्रकाश डाला।

प्रारंभ में मंडल वाणिज्य प्रबंधक विकास खेड़ा ने प्रेजेंटेशन के माध्यम से जोधपुर मंडल पर माल लदान की उपलब्धियों व नई योजनाओं पर विस्तृत प्रकाश डाला। वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जितेंद्र मीणा ने बैठक के आयोजन के उद्देश्य की जानकारी देते हुए व्यापारियों का स्वागत किया।

उच्चाधिकारियों ने लिया भाग

इस अवसर पर अपर मंडल रेल प्रबंधक मनोज जैन, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जितेंद्र मीणा, वरिष्ठ मंडल अभियंता समन्वय मुकेश कुमार मीणा, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक अजीत कुमार मीणा, वरिष्ठ मंडल यांत्रिक अभियंता संजय शर्मा (कैरेज एंड वैगन), मंडल परिचालन प्रबंधक लोकेश कुमार, सहायक वाणिज्य प्रबंधक अशोक कुमार मीणा इत्यादि उपस्थित थे।

इन प्रमुख कंपनियों के प्रतिनिधि थे उपस्थित

बैठक में राजस्थान स्टेट माइंस एंड मिनरल्स प्राइवेट लिमिटेड, एफसीआई, अरावली फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन,अल्ट्रा ट्रैक,जेके व्हाइट और अंबुजा सीमेंट, कॉनकोर, राजसीको, एफसीआई, एचपीसीएल, एमडब्ल्यू माइंस,अर्चना इंडस्ट्रीज, नायरा एनर्जी लिमिटेड इत्यादि प्रमुख कंपनियों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और लदान से संबंधित सुझाव दिए एवं कार्यक्षेत्र में मूलभूत सुविधाओं में वृद्धि की मांग की।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews