पांच दिवसीय राष्ट्रीय नाट्य उत्सव संपन्न

पांच दिवसीय राष्ट्रीय नाट्य उत्सव संपन्न

अंतिम दिन ‘कमबख्खत इश्क’ का मंचन

जोधपुर,शहर के जयनारायण व्यास स्मृति भवन (टाउनहॉल) में सोमवार को पांच दिवसीय राष्ट्रीय नाट्योत्सव के अंतिम दिन ‘कमबख्खत इश्क’ के मंचन के साथ उत्सव सम्पन्न हो गया।

इस नाट्योत्सव में जयपुर, जोधपुर, प्रयागराज व दिल्ली के नाटकों से जोधपुर के नाट्य प्रेमियों ने 5 दिन तक इन नाटकों का इतना लुफ्त उठाया की हर दिन जय नारायण व्यास टाउन हॉल दर्शकों से खचाखच भरा रहा। इसका सीधा प्रसारण देखने वालों की भी कोई कमी नहीं थी।

पांच दिवसीय राष्ट्रीय नाट्य उत्सव संपन्न

राजस्थान संगीत नाटक अकादमी से इसका प्रतिदिन सीधा प्रसारण में जहां जोधपुर के रंग कर्मियों ने भी 5 दिन खूब आनंद लिया वही श्रोताओं ने भी तालियों की गड़गड़ाहट के साथ कलाकारों का मनोबल बढ़ाया। इससे यह लगता है कि जीवंत कलाओं को देखने के लिए पुनः श्रोताओं में एक जागरूकता आई है और संगीत नाटक एकेडमी का यह प्रयास पूर्ण रूप से सफल हुआ।

पांच दिवसीय राष्ट्रीय नाट्य उत्सव संपन्न

आज मंचित नाटक ‘कमबख्खत इश्क’ निर्देशन श्याम कुमार, लेखक सत्य प्रकाश थे, इसमें दिल्ली के कलाकारों ने अपना अभिनय की छाप छोड़ी। नाटक का सार था वृद्धावस्था में यदि पत्नी चली जाए और पति चला जाए तो क्या परिस्थिति होती है, वृद्धावस्था में कोई किसी को सुनने वाला नहीं होता है ऐसे में दो वृद्ध प्रेमियों का विवाह रचा करके नाटक को संपन्न किया गया और पूरे नाटक में हास्य बना रहा। दर्शकों ने इसका जमकर आनंद लिया।

पांच दिवसीय राष्ट्रीय नाट्य उत्सव संपन्न

5 दिवस तक जहां जीवंत कला का दर्शकों ने आनंद लिया वहीं पर एक नयापन भी देखने को मिला,जहां- जहां पर नाटक के समय सीधे संगीतकार संगीत दिया करते थे उसके स्थान पर कंप्यूटराइज संगीत का प्रयोग सार्थक लगा।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews