मारवाड़ जंक्शन से लूणी के बीच तारों में आज दौड़ेगा करंट

मारवाड़ जंक्शन से लूणी के बीच तारों में आज दौड़ेगा करंट

  • 72 किलोमीटर रेल खंड पर कार्य पूरा
  • आमजन को रेलवे ने किया खतरे के प्रति आगाह
  • निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप कार्य में आई तेजी

जोधपुर, मंडल पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाने की उम्मीदों को बुधवार को पंख लग जाएंगे, जब मारवाड़ जंक्शन से लूणी जंक्शन के बीच बिछाए गए इलेक्ट्रिक तारों में बुधवार से हाई वोल्टेज करंट दौड़ना शुरू हो जाएगा। रेलवे ने आमजन को उच्च क्षमता करंट वाले तारों से दूर रहने के प्रति आगाह किया है।

मंडल रेल प्रबंधक गीतिका पांडे ने मंगलवार को बताया कि जोधपुर मंडल पर तेज गति से करवाए जा रहे रेल विद्युतीकरण कार्य के नतीजतन मारवाड़ जंक्शन से लूणी जंक्शन के बीच 72 किलोमीटर रेलखंड पर विद्युतीकरण कार्य पूरा करवा लिया गया है तथा बुधवार को तारों में करंट प्रवाहित होते ही जोधपुर रेल मंडल में नवीन युग की शुरुआत हो जाएगी।

मारवाड़ जंक्शन से लूणी के बीच तारों में आज दौड़ेगा करंट

पांडेय ने बताया कि लूणी से जोधपुर के बीच 32 किलोमीटर रेल खंड पर भी विद्युतीकरण कार्य करीब-करीब पूरा करवा लिया गया है तथा 31 मार्च तक निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप जोधपुर-लूणी (32 किलोमीटर) लूणी से मारवाड़ जंक्शन(72 किलोमीटर) व लूणी से समदड़ी(48 किलोमीटर) खंड पर रेल विद्युतीकरण कार्य पूरा करवा लिया जाएगा और इसे समय पर पूरा करने के उचित निर्देश दिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2024 तक जोधपुर से आने और जाने वाली सभी ट्रेनों में इलेक्ट्रिक इंजन लगाने का लक्ष्य निर्धारित है और मंडल उसी के अनुरूप कार्य कर रहा है।

मारवाड़ जंक्शन से लूणी के बीच तारों में आज दौड़ेगा करंट

यह होगा फायदा

इलेक्ट्रिक ट्रेन से प्रदूषण घटेगा, रेलवे के पैसे बचेंगे,ईंधन आयात पर निर्भरता में कमी के साथ डीजल इंजन से होने वाले धुएं से प्रदूषण में भी कमी आएगी,साथ ही ट्रेनों की गति बढ़ेगी आने-जाने वाले समय में भी कमी आएगी। रूट से अधिक ट्रेनों का संचालन भी हो सकेगा। इलेक्ट्रिक इंजन की रूट क्षमता अधिक होने से अधिक भार का भी वहन हो सकेगा। डीजल इंजन 12 और 13 मिनट में स्पीड पकड़ता है वह इलेक्ट्रिक इंजन से अधिकतम स्पीड 8 और 9 मिनट में ही मिल जाती है।

 

रेलवे की आम लोगों को चेतावनी

जोधपुर रेल मंडल प्रशासन ने मारवाड़ जंक्शन से लूणी रेलखंड के बीच रेल पटरियों के ऊपर लगे बिजली के तारों में 25 किलो वाट हाई वोल्टेज प्रवाहित होने के कारण आम जनता को चेतावनी दी है कि वे बिजली कर्षण के तारों और उनकी फिटिंग से दूर रहें । आम लोगों को रेलवे ने आगाह किया है कि वे इन तारों और फिटिंग्स के पास न जाएं अथवा इनके संपर्क में ना आएं और ना ही बांस की बल्लियां व धातु की छड़ों आदि से इन्हें छुएं, क्योंकि ऐसा करना खतरनाक है। यात्री रेल यात्रा करते समय रेल के डिब्बों के ऊपर चढ़कर यात्रा नहीं करें। रेलवे ने जोधपुर लूणी -मारवाड़ जंक्शन खंड के सभी समपारों पर सड़क सतह से 4.76 मीटर की ऊंचाई पर गेज लगाए हैं ताकि बहुत ऊंचाई वाले लोड को विद्युन्मय कर्षण तार की खतरनाक सन्निकटता व संपर्क में आने से रोका जा सके।

रेलवे ने जनसाधारण को सूचित किया है कि वह वाहनों के लदान के प्रयोजन के लिए उक्त ऊंचाई की पालना करें। बस या अन्य किसी वाहन की छत पर चढ़कर समपार को पार नहीं करें इसके संपर्क में आने के कारण आग और जीवन हानि का खतरा रहता है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews