बद्रीनाथ धाम के रावल ने डिममर श्रीलक्ष्मी नारायण मंदिर के किए दर्शन

बद्रीनाथ धाम के रावल ने डिममर श्रीलक्ष्मी नारायण मंदिर के किए दर्शन

श्रीबद्रीरीनाथ धाम यात्रा

-विनोद भंडारी

जोशीमठ,बद्रीनाथ धाम के रावल ने श्रीलक्ष्मी नारायण मंदिर के किए दर्शन। श्रीबद्रीनाथ धाम के रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी ने धर्माधिकारी आचार्य राधाकृष्ण थपलियाल तथा वेदपाठी रविंद्र भट्ट नायब रावल अमरनाथ नंबूदरी,के साथ श्री बद्रीनाथ धाम में भगवान बद्रीविशाल की पूजा व्यवस्था,भोग सेवा में योगदान कर रहे डिमरि ब्राह्मणों के मूल गांव डिम्मर स्थित प्राचीन श्रीलक्ष्मी नारायण भगवान की पूजा अभिषेक में शामिल हुए तथा आदि गुरु शंकराचार्य निमृत अमृत जल कुंड में आचमन किया। उन्होंने कहा कि डिम्मर गांव का बद्रीनाथ मंदिर पूजा ब्यवस्था में विशेष योगदान रहा है। भगवान बद्रीविशाल की कृपा से यात्रा कुशलता से संपन्न हुई,सब पर ईश्वर की कृपा बनी रहे। इस अवसर पर धर्माधिकारी आचार्य राधाकृष्ण थपलियाल ने कहा कि डिम्मर गांव को भगवान बदरीविशाल की सेवा का सौभाग्य प्राप्त है।

यह भी पढ़ें-अलग अलग हादसों में दो की मौत

उल्लेखनीय है कि श्रीबदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने तथा आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी के जोशीमठ पहुंचने के बाद हर वर्ष बदरीनाथ धाम के रावल डिम्मर स्थित श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर में दर्शन हेतु पहुंचते हैं। डिम्मर गांव पहुंचने पर डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत अध्यक्ष श्रीबदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति सदस्य आशुतोष डिमरी तथा रामलीला मंडली एवं केंद्रीय पंचायत के पदाधिकारियों ने रावल,धर्माधिकारी तथा वेदपाठीगणों का स्वागत किया। डिमरी धार्मिक केंद्रीय पंचायत अध्यक्ष आशुतोष डिमरी ने अभिनंदन पत्र पढ़ा एवं स्वागत संबोधन दिया। इस अवसर पर रामलीला मंच देवचौंरी में अतिथियों को अंगवस्त्र भेंट कर स्वागत किया गया। ज्ञातब्य है कि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 18 नवंबर को शीतकाल हेतु बंद हो गये हैं कपाट बंद होने के बाद श्रीउद्धव जी,श्रीकुबेर जी 19 नवंबर को अपने शीतकालीन प्रवास पांडुकेश्वर पहुंचे तो भगवान नारायण के वाहन गरुड़जी मंदिर खजाने के साथ जोशीमठ पहुंचे।

इसे भी पढ़ें कैसे की ठगी- चिकित्सक को क्रिप्टो करेंसी में मुनाफे का लालच देकर14.60 लाख की ठगी

आदि गुरु शंकराचार्यजी की गद्दी 20 नवंबर को गद्दीस्थल श्रीनृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंच गई। इसके बाद मंगलवार को रावल डिम्मर गांव पहुंचे इससे पहले उन्होंने धर्माधिकारी वेदपाठीगणों के साथ सीमा सड़क संगठन के पीपलकोटी कैंप स्थित श्री नारायण मंदिर तथा शबरीमाला मंदिर में पूजा अर्चना की। डिम्मर से लौटने के बाद रावल धर्माधिकारी वेदपाठियों ने देवप्रयाग संगम के दर्शन कर ऋषिकेश हेतु प्रस्थान किया। ऋषिकेश में त्रिवेणी घाट पर बदरीनाथ धाम के रावल श्रीगंगा जी की शायंकालीन आरती में शामिल हुए।डिम्मर में लक्ष्मीनारायण मंदिर में दर्शन के दौरान पुजारी मोहन प्रसाद डिमरी,डिमरी केंद्रीय पंचायत सचिव भगवती प्रसाद डिमरी,कोषाध्यक्ष टीका प्रसाद डिमरी,बडुवा हेमचंद्र डिमरी,बीकेटीसी मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़,राजेश नंबूदरी,नरेश खंडूरी,संजय डिमरी,शिव प्रसाद डिमरी,बुद्धिबल्लभ डिमरी सहित महिला मंगल दल डिम्मर के पदाधिकारी,रामलीला मंडली के सदस्य पदाधिकारी मौजूद सेना आईटीबीपी,सीमा सड़क संगठन के प्रतिनिधि मौजूद थे।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन यहां से इंस्टॉल कीजिए https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

Similar Posts