चिकित्सक को क्रिप्टो करेंसी में मुनाफे का लालच देकर14.60 लाख की ठगी

चिकित्सक को क्रिप्टो करेंसी में मुनाफे का लालच देकर14.60 लाख की ठगी

  • इलाज कराने आई महिला के पुत्र ने झांसे में लेकर किया फ्रॉड
  • जवाब मिला कुछ नहीं बिगाड़ सकते

जोधपुर,चिकित्सक को क्रिप्टो करेंसी में मुनाफे का लालच देकर 14.60 लाख की ठगी। शहर के रामेश्वर नगर में दंत चिकित्सालय संचालित करने वाले एक चिकित्सक को क्रिप्टो करेंसी में करोड़ों का मुनाफे का लालच देकर 14.60 लाख की धोखाधड़ी कर ली गई। चिकित्सक ने अब इस बारे में भगत की कोठी थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया है। जिस पर पुलिस ने अग्रिम जांच आरंभ की है।

इसे भी पढ़िए- पिकअप की टक्कर से बाइक सवार की मौत,साथी घायल

रामेश्वर नगर ई- 349 में रहने वाले मुकेश पुत्र बालकिशन पालीवाल की तरफ से रिपोर्ट दी गई। इसमें बताया कि वे अपना एक दंत चिकित्सालय उक्त पते पर ही संचालित करते हैं। वर्ष 2019 में उनके क्लिनिक पर चंद्रकला चारण नाम की एक महिला अपने पति एलएन चारण के साथ इलाज के लिए आई थी। तब बाद में वह रेगुलर क्लिनिक आने लगी। जान पहचान हो गई। बाद में उसने अपने एक पुत्र प्रतीक चारण से वर्ष 2020 में मिलवाया। इनके बीच में फोन पर बातचीत होती रहती थी और क्लिनिक पर आना जाना रहता था। तब प्रतीक  चारण ने बताया कि वह क्रिप्टो का काम करता है और बड़ा मुनाफा आप क्लिनिक में बैठे बैठे ही कमा सकते है। इस पर उसने अपनी योजनाओं के बारे जानकारी दी। उसने बताया कि 27 हजार निवेश करने पर आठ दस महिनों में 10 लाख तक का मुनाफा मिल जाएगा। तब जनवरी 22 में उसे 27 हजार रुपए निवेश करने को कहा गया। इस पर बाद में प्रतीक ने और योजनाओं के बारे में जानकारी दी कि 1.70 लाख का इंवेस्ट किए जाने पर 90 लाख रुपए तक मिल सकते हैं। दिसम्बर 22 में दो तीन अन्य योजनाओं के बारे में जानकारी दी। इस पर झांसे में आए चिकित्सक ने विश्वास में आकर उसे दिसम्बर 22 से लेकर जनवरी 23 के बीच में 14.60 लाख रुपए विभिन्न मदों में दे दिए। आरोपी ने बताया कि उसका खुद का भी तीन चार करोड़ रुपया निवेश किया हुआ है।

जानिए पूरी कहानी यहां-सिलक्यारा टनल में बचाव ऑपरेशन तेजी से जारी

चिकित्सक ने 5.35 लाख रुपए फोनपे,9.25 लाख रुपए केश दिए। बाद में 2.25 लाख और दिए गए। यानी कुल मिलाकर 14.60 लाख रुपए आरोपी को दिए गए। मगर कोई मुनाफा नहीं होते देख प्रतीक से बात की गई तो वह हर बार टालमटोल जवाब देता रहा। इस पर पीडि़त चिकित्सक ने अपने एक परिचित सुनील यादव जो तकनीक का अच्छा जानकार है उससे बात की तो पता लगा कि आरोपी फर्जी बॉलेट है और उसका कोई खाता नहीं है और चिकित्सक के रुपए भी खाते में नहीं चढ़ाए गए हैं। बाद में आरोपी से इस बारे में बात की तो कहा कि आप कुछ भी कर लो,मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकते। वह कई लोगों से ठगी कर चुका है। उसके घरवालों का भी ऐसा ही जवाब सुनकर चिकित्स्क दंग रह गया और अब पुलिस की शरण लेकर केस दर्ज करवाया है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन यहां से इंस्टॉल कीजिए https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

Similar Posts