10 थाना क्षेत्रों में हुई शांति समिति,सीएलजी की बैठकों में शांति एवं सौहार्द का संकल्प

10 थाना क्षेत्रों में हुई शांति समिति,सीएलजी की बैठकों में शांति एवं सौहार्द का संकल्प

  • जोधपुर में हालात तेजी से सुधार पर
  • क्षेत्रवासियों ने गले मिलकर पेश की सद्भाव की मिसाल
  • मुँह मीठा कर दिया माधुर्य का पैगाम

जोधपुर, शहर में हाल ही असामाजिक तत्वों द्वारा फैलाई अशान्ति के बाद अब हालात निरन्तर सुधार पर हैं और सूर्य नगरी फिर से अमन-चैन की डगर पर लौटने लगी है। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए विभिन्न थाना क्षेत्रों में ऐहतियात के तौर पुलिस बल तैनात हैं।

तीन दिन पूर्व हुई घटना के बाद प्रशासन एवं पुलिस तथा जन प्रतिनिधियों एवं विभिन्न समुदायों व समाजों के गणमान्य लोगों द्वारा किए जा रहे प्रयासों का व्यापक असर सामने आ रहा है और अब प्रभावित क्षेत्रों में शान्तिपूर्ण माहौल बना हुआ है। गुरुवार को जोधपुर शहर में विभिन्न 10 थाना क्षेत्रों में सीएलजी की बैठकों का आयोजन किया गया।

10 थाना क्षेत्रों में हुई शांति समिति,सीएलजी की बैठकों में शांति एवं सौहार्द का संकल्प

शहर में गुरुवार को सदर कोतवाली, सदर बाजार, नागौरी गेट, खाण्डा फालसा, उदय मन्दिर, सरदारपुरा, प्रतापनगर, प्रतापनगर सदर, देव नगर एवं सूरसागर थाना क्षेत्रों में हुई शांति समिति/सीएलजी की बैठकों का आयोजन हुआ। इनमें प्रशासन एवं पुलिस अधिकारियों की मेहनत रंग लायी और एक स्वर में सभी ने जोधपुर की अपणायत की छवि को बरकरार रखने के लिए हरसंभव सहभागिता का संकल्प जताया।

पुलिस एवं प्रशासन पर जताया भरोसा

सभी स्थानों पर हुई बैठकों में उपस्थित लोगों ने अफवाहों पर विश्वास नहीं करने का भरोसा दिलाया और कहा कि किसी भी प्रकार की बात सामने आने पर पहले पुलिस एवं प्रशासन से सम्पर्क कर पुष्टि करेंगे और सही स्थिति जानेंगे। शहर के प्रतिनिधियों ने यह भी कहा कि प्रशासन एवं पुलिस की कार्यवाही एवं निष्पक्षता पर हमें पूरा भरोसा है और हम साथ हैं।

इन बैठकों में क्षेत्रवासियों ने कर्फ्यू में ढील दिए जाने तथा क्षेत्र में फ्लेग मार्च का आग्रह किया और विश्वास दिलाया कि शहरवासी प्रशासन एवं पुलिस के प्रयासों में हरसंभव साथ हैं तथा सभी चाहते हैं कि जोधपुर की स्थिति पहले की तरह हो जाए।

10 थाना क्षेत्रों में हुई शांति समिति,सीएलजी की बैठकों में शांति एवं सौहार्द का संकल्प

बढ़ा-चढ़ा कर दिखाए जाने पर बाहरी मीडिया के प्रति शहरवासियों में आक्रोश

पारस्परिक चर्चा के दौरान शहर वासियों में इस बात को लेकर आक्रोश देखा गया कि बाहर से आए मीडिया द्वारा बढ़ा-चढ़ा कर दिखाया जा रहा है और जोधपुर की छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है। इस स्थिति पर शहरवासियों ने अंकुश लगाने की जरूरत बताई। इन बैठकों में शहरी प्रतिनिधियों ने कहा कि जोधपुर शांति, सद्भाव एवं पारस्परिक विश्वास का प्रतीक रहा है और शहर की अपणायत परम्परा एक मिसाल रही है लेकिन बाहरी मीडिया द्वारा घटना से संबंधित बातों को तूल देकर बेवजह बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया जा रहा है, इससे शहरवासियों की भावनाएं आहत हुई हैं। इन बैठकों में अफवाहों एवं मिथ्या खबरों पर विश्वास नहीं करने की अपील भी की गई।

सभी ने लिया संकल्प जोधपुर की अपणायत परंपरा पर नहीं आने दी जाएगी आँच

इनमें संबंधित क्षेत्रों के विभिन्न समुदायों के प्रतिनिधियों, जनप्रतिनिधियों एवं गणमान्य व्यक्तियों ने हिस्सा लिया। इन सभी स्थानों पर प्रशासन एवं पुलिस के अधिकारियों एवं स्थानीय जन प्रतिनिधियों की समझाईश और क्षेत्रवासियों से सीधा संवाद सार्थक रहा। सभी बैठकों में क्षेत्रवासियों ने शान्ति, सौहार्द एवं सद्भाव की परम्परा को बनाए रखने के लिए संकल्प लिया और विश्वास जताया कि सभी लोग पूरे मन से इस बात के लिए प्रयासरत हैं कि जोधपुर की भाईचारे की परंपरा पर कोई आंच न आए तथा अपना शहर बदनाम न होने पाए।
इन बैठकों में विभिन्न समुदायों के प्रतिनिधियों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर मुँह मीठा किया तथा गले मिलकर आपसी भाईचारे का पैगाम दिया।

सार्थक संवाद एवं समझाईश का प्रभावी असर

इन बैठकों में प्रशासन एवं पुलिस के आला अधिकारियों तथा स्थानीय जन प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया और शहरवासियों से चर्चा करते हुए समझाईश की। इससे सभी स्थानों पर हुई बैठकों ने जोधपुर की अपणायत परम्परा के प्रति समर्पण और शांति एवं सौहार्द के लिए शहरवासियों की आत्मीय भागीदारी का परिचय दिया।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews