mother-could-not-even-see-the-face-meaning-of-three-siblings-adorned-on-the-same-pyre

मां चेहरा तक नहीं देख पाई,एक ही चिता पर सजी तीन भाई बहनों की अर्थी

कीर्तिनगर गैस हादसा

  • शव घर पहुंचते हुए मचा कोहराम -मची चित्कारें
  • अस्पताल में भर्ती मां तीनों बच्चों की मौत अनभिज्ञ
  • अंतिम यात्रा में भर आर्ई आंखें

जोधपुर,शहर के कीर्तिनगर अन्नसागर इलाके मेें शनिवार को हुए हृदयविदारक घटनाक्रम के बाद आज एक ही घर से तीन भाई बहनों के चिता उठी। पूरा मोहल्ला नम आंखों से विदाई देते दिखा। तीनों भाई बहनों के चिता एक साथ सजी और अंतिम विदाई दी गई। इस हृदयविदारक हादसे के बाद शनिवार की रात भी लोगों की आंखों में जागकर ही कटी।
अवैध तरीके से गैस चुराकर दूसरे सिलेण्डर में भरने के दौरान आग व विस्फोट से जिंदा जलने वाले मासूम भाई व दो बहनों का रविवार को अन्नासागर स्थित श्मशान स्थल में एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया।

जिंदगी व मौत से जूझ रही मां महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती होने से तीनों बच्चों के अंतिम दर्शन तक नहीं कर पाई। तीनों की अंतिम विदाई से परिजन के साथ ही मोहल्लेवासियों की आंखें भर आईं। गैस सिलेण्डरों में आग व विस्फोट से शनिवार को अन्नासागर गली-1 निवासी भोमाराम लोहार की पुत्री कोमल व नीकू,पुत्र विक्की और साला सुरेश लोहार जिंदा जल गए थे। पुलिस ने रविवार सुबह कार्रवाई के बाद चारों शव परिजन को सौंपे।

सुरेश का शव परिजन नागौर में मेड़ता रोड के पास पैतृक गांव ले गए। जबकि तीनों मासूम भाई-बहनों के शव किशोरबाग में भोमाराम के चाचा के घर लाए गए। मासूम बच्चों के जले शव देख घरवालों की रुलाई फूट गई। वहां एकबारगी कोहराम मच गया। फिर तीनों की अंतिम यात्रा शुरू हुई। जो अन्नसागर में श्मशानस्थल पहुंची। वहां एक ही चिता पर तीनों भाई बहनों का अंतिम संस्कार किया गया।

मां व एक बहन अस्पताल में भर्ती

हादसे में भोमाराम की पत्नी सरोज व एक अन्य पुत्री निरमा भी झुलसे हैं। जो एमजीएच की बर्न यूनिट में भर्ती हैं। मां सरोज तीनों बच्चों की मौत से अनभिज्ञ है। वह तीनों बच्चों के अंतिम दर्शन तक नहीं कर सकी। फिलहाल मौतों का आंकड़ा बढ़ा नहीं है। घायलों का इलाज जारी है। रात भर आंखों में नींद नहीं,दहशत में गुजरी।

हादसे के बाद कॉलोनी के लोग दहशत के मारे रातभर सो नहीं पाए। लोग घरों के बाहर बैठे रहे। बच्चे भी सहमे नजर आए। लोगों के मन में हादसे को लेकर तरह-तरह की बात आती रही। इधर,एमजीएच हॉस्पिटल में भर्ती 8 लोगों में दो की हालत गंभीर बनी हुई है।

आज सुबह मोहल्ले में सन्नाटा पसरा

कोजाराम के परिवार ने शनिवार की रात किशोर बाग स्थित रिश्तेदार के घर में गुजारी। किशोर बाग इलाके में कोजाराम के भाई का घर है। रात में जब कीर्ति नगर वाले घर में आग की तपन कुछ कम हुई तो वहां से जरूरी सामान निकाल कर किशोर बाग वाले घर में शिफ्ट किया गया। रविवार की सुबह मोहल्ले में सन्नाटा छाया हुआ था। लोगों की जुबान पर शनिवार को हुए हादसे की ही बात थी।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें-http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews