बाल यौन शोषण पर प्रभावी रूप से इन्वेस्टिगेशन हो- मधुमिता

बाल यौन शोषण पर प्रभावी रूप से इन्वेस्टिगेशन हो- मधुमिता

  • एसेस टू जस्टिस फ़ॉर चिल्ड्रन
  • बाल तस्करी एवं बालश्रम पर कार्यशाला

जोधपुर, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन एवं जय भीम शिक्षण संस्थान द्वारा एसेस टू जस्टिस फ़ॉर चिल्ड्रन द्वारा यौन शोषण, बाल तस्करी एवं बालश्रम पर एक होटल में दो दिवसीय कार्यशाला गुरूवार से आरंभ हुई।

जय भीम शिक्षण संस्थान के निदेशक तुलसीदास राज ने बताया कि कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन एवं एसेस टू जस्टिस फ़ॉर चिल्ड्रन कार्यक्रम के तहत बाल अपराध, बाल सुरक्षा, बचाव, पुनर्वास, बाल विवाह, बाल सरंक्षण, कानूनी सहायता, बालश्रम, बाल विवाह, यौन उत्पीडऩ शिकार बच्चों की सुरक्षा के विषय पर कार्यशाला का संचालन किया जा रहा है।

बाल यौन शोषण पर प्रभावी रूप से इन्वेस्टिगेशन हो- मधुमिता

कार्यशाला को संबोधित करते हुए कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन की ट्रेनर मधुमिता ने बाल यौन शोषण (पॉक्सो कानून) पर प्रकाश डालते हुए बताया कि पीडि़ता को न्याय दिलाने के लिए जाँच कार्यवाही गम्भीरता से करें जिससे अपराधी को सजा मिल सके। कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए ट्रेनर पूर्व डीवाईएसपी आरपी सिंह ने पोक्सो कानून के सभी सेक्शन पर विस्तार से प्रकाश डाला गया। उन्होंने बताया कि केस की जांच/इन्वेस्टिगेशन में प्रत्येक पहलू को ध्यान में रखते हुए निष्पक्ष जांच करनी चाहिए जिससे पीडि़ता को न्याय मिल सके और किसी बेकसूर को सजा भी नहीं मिले।

कार्यक्रम में बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष धनपत गुजर,बाल अधिकारिता विभाग के उप निदेशक बजरंग लाल सारस्वत,श्रम विभाग के निरीक्षक बुधराम विश्नोई,मानव तस्करी विरोधी यूनिट के सीआई सुभाष विश्नोई, सीआई हुकमाराम, सीआई कैलाशदान, सभी पुलिस थानों के बाल कल्याण अधिकारी,न्यायिक सेवा के अधिकारी,सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधिकारी,बाल कल्याण समिति के पदाधिकारी,किशोर न्याय बोर्ड पदाधिकारी, बाल अधिकारिता विभाग के अधिकारी,मानव तस्करी विरोधी यूनिट के अधिकारी, सामाजिक सेवा संस्थान के पदाधिकारियों ने कार्यशाला में भाग लिया।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews