indian-air-force-now-equipped-with-prachanda

भारतीय वायु सेना अब ‘प्रचंड’ से लैस

स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर एलसीएच वायुसेना के बेड़े में शामिल

जोधपुर,स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर एलसीएच सोमवार को औपचारिक रूप से भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल हो गया है। इसी के साथ जोधपुर एयरबेस स्वदेशी वॉर मशीन से लैस हो गया है। इस दुर्गाष्टमी से भारतीय वायुसेना की शक्ति भी और बढ़ गई है। सोमवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने जोधपुर एयरबेस में 10 लड़ाकू लाइट कॉम्बेट हेलिकॉप्टर को वायुसेना के बेड़े में शामिल किया। यह देश को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है।

जोधपुर में लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर को एयरफोर्स को सौंपने से पहले धर्मसभा का आयोजन किया गया। यह हेलिकॉप्टर आधुनिकता से लबरेज है। ये हेलिकॉप्टर्स 100 से 16 हजार ऊंचाई से मार करने में सक्षम होने के साथ इसके कैनन से 1 मिनट में 750 गोलियां दागी जा सकती हैं। मिसाइलों से भी इस हेलिकॉप्टर्स को लैस किया जा सकता है।

indian-air-force-now-equipped-with-prachanda

भारतीय वायुसेना के पहले स्वदेशी अटैक हेलीकॉप्टर एलसीएच सीमा के करीब जोधपुर में तैनात किए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली सुरक्षा की कैबिनेट कमेटी ने मार्च 2022 में 15 स्वदेशी लाइट अटैक हेलीकॉप्टर खरीदने को मंजूरी दी थी। 3387 करोड़ में ये हेलीकॉप्टर एचएएल से खरीदे गए हैं, इनमें से 10 हेलीकॉप्टर वायुसेना और 5 थलसेना को मिलेंगे।

एलसीएच की खूबियां

ये बहुउपयोगी हेलीकॉप्टर कई मिसाइल एक साथ दागने और अन्य हथियारों को इस्तेमाल करने में सक्षम हैं।

@पाकिस्तान की सीमा के नजदीक भारतीय वायु सेना का ये एलसीएच स्क्वार्डन पश्चिमी सीमा से घुसपैठ और अतंकवाद रोकने में मदद करेगा।

@कंबैक्ट लाइट हेलीकॉप्टर को हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने भारत में ही बनाया है।

@अब तक का सबसे हल्का अटैक हेलीकॉप्टर है, इसका वजन सिर्फ 5,800 किलो है।

@ इस हेलीकॉप्टर में 300 किलो की मिसाइल को भी इंट्रीग्रेटे किया गया है। हालांकि इसमें 700 किलो वजनी मिसाइल को भी इंट्रिगेट किया जा सकता है।

@एलसीएच की नोज यानि फ्रंट में एक 20 एमएम की गन लगी हुई है जो 110 डिग्री में किसी भी दिशा में घूम सकती है।

@ एलसीएच के अलावा भारतीय वायु सेना को अमेरिका के बोइंग ए एच 64 ई अपाचे हेलीकॉप्टर अपनी सेवाएं पहले से ही दे रहा है।

@यह लाइट कंबेक्ट हेलीकॉप्टर दुनिया के सबसे घातक अटैक हेलीकॉप्टर में से एक है क्योंकि यह 15 हजार फीट की ऊंचाई पर भी ऑपरेट कर सकता है। अब तक भारतीय हवाई सेना के युद्ध हेलीकॉप्टर के तौर पर रूस के एम आई 35, एमआई 25 हेलीकॉप्टर का इस्तमाल कर रही थी।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें-http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews