डीपीपीएस मनाया हिंदी दिवस

जोधपुर, सहस्र के प्रतापनगर स्थित दिल्ली पब्लिक प्राइमरी स्कूल में हिंदी दिवस पर राष्ट्रीय भाषा और भारत के इतिहास के महत्व पर भाषण का आयोजन किया गया। इस विशेष अवसर पर शिक्षकों ने ऑनलाइन कक्षाओं में विद्यार्थियों को इस दिन के बारे में जानकारी दी और बताया कि दुनिया के विविध राष्ट्रों में से एक होने के नाते भारत एक ऐसा देश है जहां अनेक परंपराएं, रीति-रिवाजए,धर्म और भाषाएं पनपती हैं और सभी भाषाओं में हिंदी को प्रमुख माना जाता है और भारत में व्यापक रूप से हिंदी बोली जाती है।

14 सितंबरए 1949 को हिंदी को भारत में एक उच्च दर्जा मिला जब इसे देश की आधिकारि क भाषा के रूप में अपनाया गया। आज हिन्दी को राष्ट्रभाषा का दर्जा प्राप्त है। आज के अत्यधिक व्यावसायिक वातावरण में जहाँ लोग अपनी जड़ें भूल रहे हैं हिंदी दिवस एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस अवसर पर नर्सरी, केजी,2,3,4,6 के विद्यार्थियों ने क्रमशः कविता,कबीर के दोहे,हिंदी भाषा का उपयोग आदि में भाग लिया।

इस अवसर पर निदेशक डॉ ज्योत्सना शेखावत ने हिंदी को भारतीय संस्कृति की आत्मा बताया और कहा कि हिंदी हमारे राष्ट्र की अभिव्यक्ति का सबसे सरल स्रोत है। प्रधानाचार्य विजय लक्ष्मी राठौर ने भारत के युवाओं से आग्रह किया कि वे आगे आएं और हिंदी भाषा को बढ़ावा देने में हाथ मिलाएं और इस भाषा की प्रगति के लिए जुड़े।

ये भी पढें – राजा रणधीर सिंह ओलंपिक परिषद ऑफ एशिया के कार्यकारी अध्यक्ष बने

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews