अक्षय तृतीया आज, मारवाड़ में रहेगी अबूझ सावों की धूम, तीन बाल विवाह भी रूकवाए

अक्षय तृतीया आज, मारवाड़ में रहेगी अबूझ सावों की धूम, तीन बाल विवाह भी रूकवाए

  • बाजारों में छाई रौनक
  • शादी वाले घरों में गूंज रहे मंगल गीत

जोधपुर, इस बार आखातीज यानी अक्षय तृतीय भीषण गर्मी के साथ आई है। मंगलवार को अक्षय तृतीया है। ज्योतिषियों के अनुसार कई राजयोगों के साथ इस बार अक्षय तृतीया आई है। मंगलवार को अबूझ सावों की धूम देखने को मिलेगी। मारवाड़ मेें पांच सौ ज्यादा शादियों का आयोजन है। बाजारों में जबरदस्त रौनक छाई हुई है। हर सेक्टर में बूम देखने को मिल रहा है।

अक्षय तृतीया पर घरों में खीच, गळवाणी बनाने की परंपरा रही है। इस दिन सुबह घरों में खीच, गळवाणी का विशेष रूप से सेवन होगा। मारवाड़ में राब और गळवाणी का प्रचलन सदियों से चला आ रहा है। जोधपुर शहर में अक्षय तृतीया पर अबूझ सावों के चलते शादी वाले घरों में शहनाइयों की गूंज और मंगलगीत सुनाई पड़ते हैं। सोमवार को भी कई घरों में शादी समारोह का आयोजन चल रहा था।

तीन बाल विवाह रूकवाए गए

बाल विवाह रोकथाम के लिए प्रशासन भी अलर्ट मोड पर है। रविवार को ही डांगियावास में डेलिया गांव तीन बच्चियों की शादी को प्रशासन की तरफ से रूकवा कर पाबंद किया था। सोमवार को भी प्रशासन की गांवों पर विशेष नजर है। अक्षय तृतीया पर विशेष कर बाल विवाह का चलन रहा है। मगर अब इसे शारदा एक्ट में लिए जाने के बाद से बाल विवाह पर पाबंदी लगाई जा चुकी हैं।

दो दिन में करोड़ों का कारोबार

प्रदेश सहित मारवाड़ में आज और कल शादियों की धूम रहेगी। 2 मई और 3 मई शादी के बड़े सावे हैं। 3 मई को आखातीज (अक्षय तृतीया) है। इस दिन अबूझ मुहूर्त है,जो हंस राजयोग है। एक ही दिन में करीब 15 हजार शादियां राजस्थान में होंगी। बताया जाता है कि राजधानी जयपुर में 3000 शादियां होने का अनुमान है। कोरोना की पाबंदियां हटने के बाद शादियों का यह सबसे बड़ा दिन है। दो दिन में करीब 22 हजार शादियां प्रदेश में होंगी। आखातीज के मौके पर राजस्थान में करीब 2500 करोड़ रुपए के कारोबार की उम्मीद है। गहने,वाहन,गारमेंट एंड शू, इलेक्ट्रॉनिक्स,फर्नीचर,कैटरिंग और हलवाई, टेंट और डेकोरेशन, इवेंट, आर्ट एंड हैंडीक्राफ्ट्स, गिफ्ट्स, फूलों का बड़ा कारोबार होने का अनुमान है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews