the-dead-body-was-recovered-from-the-crematorium-and-transported-to-the-hospital-mortuary

श्मशान से शव बरामद कर पहुंचाया अस्पताल की मोर्चरी में

  • मर्डर की सूचना पर पहुंची पुलिस
  • कराया जा रहा पोस्टमार्टम
  • नैत्रहीन बडे भाई से आ रहा विवाद सामने

जोधपुर,शहर के प्रतापनगर स्थित सर्वेश्वर महादेव मंदिर के पास में एक युवक की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। परिजन सुबह उसके शव को लेकर श्मशान पहुंचे और दाहसंस्कार की तैयारी करने लगे। मगर किसी ने पुलिस को सूचना दी कि बड़े भाई ने छोटे से विवाद किया और जिससे उसकी मृत्यु हुई है। इस पर पुलिस श्मशान पहुंची और दाहसंस्कार की तैयारी कर रहे परिजन से शव को बरामद कर लिया और मथुरादास माथुर अस्पताल की मोर्चरी पर भिजवाया। दोपहर में उसका पोस्टमार्टम करवाया गया। जाहिरा शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं। फिलहाल पुलिस ने भी जांच आरंभ की है।

एसीपी प्रतापनगर प्रेम धणदे ने बताया कि प्रतापनगर सर्वेश्वर महादेव मंदिर के पास में नेत्रहीन भंवरसिंह और उसका छोटा भाई श्यामसिंह साथ में रहते हैं। इनके मां पिता नहीं हैं। श्याम सिंह ड्रिंक का आदी होने के साथ स्वभाव से भोला था। भंवर सिंह शादीसुदा है जबकि श्याम सिंह अविवाहित था। सुबह सूचना मिली कि श्याम सिंह के साथ उसके बड़े भाई भंवरसिंह ने मारपीट की है। जिससे उसकी मृत्यु हो गई और शव का भी श्मशान में दाहसंस्कार करवाया जा रहा है। इस पर हरकत में आई पुलिस ने तुरंत जाब्ता श्मशान भेजा। थानाधिकादी देवीचंद ढाका सहित अन्य पुलिस कर्मियों ने दाहसंस्कार को रूकवाया। शव को बरामद कर उसे एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी पर भिजवाया।

एसीपी प्रेम धणदे ने बताया कि शरीर पर जाहिरा कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं। मृतक श्याम सिंह के शव को बिना पोस्टमार्टम कार्रवाई लेकर परिजन चले गए थे। इस पर वापिस लाया गया है। उन्होंने बताया कि श्याम सिंह ड्रिंक भी करता था और स्वभाव से भोला था। रात में वह कुर्सी पर बैठे बैठे संभवत: खत्म हो गया होगा। बाद में खिड़की तोड़कर अंदर प्रवेश किया गया। मृतक श्याम सिंह का बड़ा भाई भंवरसिंह नेत्रहीन होने के साथ उसकी पत्नी और बेटा बेटी भी साथ ही रहते हैं। प्रोपर्टी को लेकर विवाद बताया गया मगर उसकी पुष्टि नहीं हुई है। भंवरसिंह ही श्यामसिंह की सारसंभाल करता था। मकान भी भंवर सिंह के नाम ही है। फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मृत्यु के कारण का खुलासा हो पाएगा।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें-http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews