अंतरराष्ट्रीय वानीकी दिवस पर विद्यालय में किया पौंधारोपण

अंतरराष्ट्रीय वानीकी दिवस पर विद्यालय में किया पौंधारोपण

बीए प्रथम वर्ष की छात्रा परी गहलोत ने पौधे स्वयं के खर्चे से मंगवाए

जोधपुर,आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत राजकीय कन्या महाविद्यालय सूरसागर गेवा में सोमवार को अंतर्राष्ट्रीय वानिकी दिवस मनाया गया जिसमें विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। महिला प्रकोष्ठ की प्रोफेसर अलका बोहरा ने बताया कि वानिकी दिवस को सफलता पूर्वक मनाने के लिए स्वेच्छा से बीए प्रथम वर्ष की छात्रा परी गहलोत ने कुछ पौधे अपने स्वयं के खर्चे से मंगवाए और महाविद्यालय परिसर में पौधरोपण करवाया। प्राचार्य डॉ माला माथुर को परी गहलोत से पूछा कि आपको यह प्रेरणा कहां से मिली तो उसने बताइस की मात्र वानिकी दिवस को मना कर बातें व व्याख्यान करके हम इसको सार्थक नहीं बना सकते हैं इसलिए मेरे मन में विचार आया कि क्यों न हम वृक्षारोपण कर इसे सफल बनाएं।

अंतरराष्ट्रीय वानीकी दिवस पर विद्यालय में किया पौंधारोपण

वृक्षारोपण के दौरान माध्यमिक विद्यालय की प्राचार्य ज्योति भी उपस्थित थी। इस अवसर पर सतीश चंद्र बोहरा ने बताया कि वनों का हमारे जीवन में कितना महत्व है यह हम भली भांति जानते हैं। इस हेतु हमारे पूर्वज हम से भी कहीं ज्यादा सजग थे। वे जानते थे कि वनों से हमारे जीवन को क्या लाभ हैं? इसलिए वह वृद्धावस्था में वानप्रस्थ आश्रम में जाया करते थे उससे सीधा सीधा उनको स्वास्थ्य लाभ सबसे पहले प्राप्त होता था और स्वस्थ रहते हुए वह वन्य संपदा को बढ़ाने के लिए अपना वहां पर पूरा योगदान दिया करते थे। उसी भांति हमको भी सजग रहते हुए वनों की रक्षा करनी है और वन कम से कम काटे जाएं और अधिक से अधिक पौधरोपण में हमारे जीवन का समय व्यतीत हो ऐसा हमें संकल्प लेना चाहिए। इस अवसर पर शारीरिक शिक्षिका इंदुबाला बंग, रविंदर गहलोत, प्रोफेसर प्रवीण, प्रोफेसर मोज्जम अली भी उपस्थित थे।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews