गर्मी के मद्देनज़र पेयजल प्रबन्धन के प्रति गंभीरता बरतें- डॉ. अग्रवाल

गर्मी के मद्देनज़र पेयजल प्रबन्धन के प्रति गंभीरता बरतें- डॉ. अग्रवाल

जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग की संभागीय बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव ने दिए निर्देश

जोधपुर,जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी, खान एवं पेट्रोलियम एवं भूजल विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने जनस्वास्थ्य विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ग्रीष्मकाल के मद्देनज़र गांवों और शहरों में सर्वत्र पेयजल प्रबन्धन पर विशेष ध्यान केन्द्रित किया जाए और पेयजल से संबंधित गतिविधियों को सर्वाच्च प्राथमिकता से संपादित किया जाए। इसमें किसी तरह की कोई ढिलाई या खामी नहीं आनी चाहिए।

अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने शुक्रवार को जोधपुर के एनआईसी वीसी रूम में संभाग के जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह निर्देश दिए। उन्होंने संभाग में पेयजल व्यवस्था की विस्तार से समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान किए।

बैठक में जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के मुख्य अभियन्ता(मुख्यालय जयपुर) एचएल चौहान, मुख्य अभियन्ता नीरज माथुर, अतिरिक्त मुख्य अभियन्ता नक्षत्रसिंह चारण, जुगल करवा (बाड़मेर) एवं विनोद भारती, अधिशासी अभियन्ता शेखर हर्ष एवं अजय छंगाणी आदि उपस्थित थे।

संभाग भर के पेयजल प्रबन्धन की समीक्षा

डॉ. अग्रवाल ने जोधपुर संभाग के विभिन्न जिलों में पेयजल की उपलब्धता, पेयजल प्रबन्धन से संबंधित योजनाओं, पेयजल वितरण की स्थिति और आगामी समय में संभावित पेयजल समस्या के मद्देनज़र विभागीय कंटीन्जेंसी प्लान व एक्शन प्लान तथा विभागीय कार्यों की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वर्तमान में नहरबंदी को देखते हुए पेयजल प्रबन्धन पर विशेष ध्यान केन्द्रित करने की आवश्यकता है।

पेयजल योजनाओं के कार्य को दें रफ्तार

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने पेयजल से संबंधित विभिन्न योजनाओं के कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने सिवाना कस्बे को पोकरण फलसूण्ड योजना से जोड़ने के लिए शेष बची 6.50 किलोमीटर लम्बाई में पाइपलाईन के कार्य को शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने भीनमाल नगर को नर्मदा नहर आधारित ईआर परियोजना से जोड़ने के लिए पालड़ी ग्राम में निर्माणाधीन फिल्टर संयंत्र को त्वरित गति से पूर्ण करवाने के निर्देश दिए। बैठक में पाली जिले की कंटींजेंसी प्लान पर भी चर्चा की गई।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews