गैंग का एक और सदस्य दिल्ली से पकड़ा गया

गैंग का एक और सदस्य दिल्ली से पकड़ा गया

  • फर्जी डिग्री और अंकतालिका प्रकरण
  • फर्जी कॉल सेंटर से करते थे कर्मचारी स्टूडेंट को कॉल
  • विज्ञापन भी छपवाता था

जोधपुर,गैंग का एक और सदस्य दिल्ली से पकड़ा गया। कई विश्वविद्यालयों व बोर्डों की फर्जी अंकतालिकाएं व डिग्रियां बनाकर रुपए हड़पने वाली गैंग के एक सदस्य मदनलाल को पुरानी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गए आरोपी से पता लगा कि वह फर्जी कॉल सेंटर चलाकर स्टूडेंट को फोन करवाता था। इसके लिए बकायदा उसने कुछ कर्मचारियों को रखा हुआ था।कुड़ी भगतासनी थानाप्रभारी पुलिस निरीक्षक देवेन्द्र सिंह ने बताया है कि कुड़ी भगतासनी निवासी अशोक कुमार गुप्ता ने गत 18 अक्टूबर को थाने में एक रिपोर्ट दी थी जिसमें बताया था कि वे कुड़ी भगतासनी में एक स्कूल का संचालन करता था। अप्रैल 2021 में उनके स्कूल में नरेश प्रजापत नाम का व्यक्ति आया था, जिसने बताया कि वह एडमिशन एक्सपर्ट नाम से एक कंपनी का संचालन करता है,जिसका ऑफिस जोधाणा टॉवर आखलिया चौराहा पर है। नरेश प्रजापत ने यह भी बताया था कि वह विभिन्न विश्वविद्यालय, महाविद्यालयों व विभिन्न प्रकार के कोर्स करवाने एवं प्रवेश दिलवाने का कार्य करता है। अगर कोई इच्छुक व्यक्ति बाहर के किसी महाविद्यालय या विश्वविद्यालय से कोई कोर्स करना चाहे तो वह ऐसे लोगों का एडमिशन करवाकर उनको कोर्स करवा सकता है।

यह भी पढ़ें – कृषि उपज मंडी से 2.16 लाख की नगदी चुराने वाला गिरफ्तार

झांसे में आए अशोक कुमार गुप्ता ने 30 लोगों के एडमिशन के लिए नरेश प्रजापत को 26 लाख रुपए दे दिए। लेकिन अलग-अलग कोर्स करवाने की जगह नरेश प्रजापत ने मेवाड़ यूनिवर्सिटी,गंगरार चित्तौडग़ढ़, श्रीकृष्णा यूनिवर्सिटी छत्तरपुर, मध्यप्रदेश,उत्तराखंड प्राविधिक शिक्षा परिषद रुडक़ी उत्तराखंड के नाम से कूटरचित अंकतालिकाएं दे दी। पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज करने के साथ ही मूलत: नागौर जिले के कोतवाली थानान्तर्गत हाल माता का थान, 80 फीट रोड निवासी नरेश प्रजापत पुत्र अशोक कुमार को गिरफ्तार किया गया था। उससे की गई प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि नरेश प्रजापत नई दिल्ली के अपने पूर्व से परिचित मदनलाल के साथ मिलकर फर्जी अंकतालिकाएं व डिग्रियां बनाता था।

यह भी पढ़ें – पुलिस पर डंपर से हमला करने वाला चालक नहीं मिला,मालिक का फोन बंद

दिल्ली से मदनलाल को पकड़ा
एसीपी बोरानाडा नरेंद्र सिंह देवड़ा ने बताया कि नरेश प्रजापत से मिले इनपुट के बाद आरोपी को पकडऩे के लिए एक पुलिस टीम को पुरानी दिल्ली भेजा गया। जहां से पुलिस टीम ने मकान नंबर 85,गली नंबर 5ए,संत नगर,बुराड़ी निवासी मदनलाल पुत्र नरेनुराम को गिरफ्तार किया।

यह भी पढ़ें – कृषि उपज मंडी में गाड़ी से 2.16 लाख की नगदी चुराने वाला गिरफ्तार

हिमालय एजुकेशन फर्जी ग्रुप खोल रखा था
एसीपी बोरानाडा नरेंद्र सिंह देवड़ा ने बताया कि आरोपी मदनलाल ने हिमालय ग्रुप ऑफ एजुकेशन के नाम से फर्जी संस्थान खोल रखा था। मदनलाल द्वारा विभिन्न यूनिवर्सिटी व बोर्डों से बीकॉम,बीएससी,बीएड,डी फार्मा,12वीं की कक्षा सहित अन्य प्रकार के कोर्सेज करवाने के लिए संत नगर दिल्ली में हिमालय ग्रुप ऑफ एजुकेशन के नाम से एक फर्जी संस्था खोल रखी थी।

यह भी पढ़ें – सरगरा समाज लूणी का तृतीय सामूहिक विवाह 11 मार्च को

कॉल सेंटर चलाकर विज्ञापन देता था
यह भी पता लगा कि आरोपी मदनलाल कॉल सेंटर खोलकर फर्जी विज्ञापन बनाकर लोगों से सोशल मीडिया के माध्यम से संपर्क कर उनको विभिन्न यूनिवर्सिटी में प्रवेश करवाकर पास कराने के नाम पर रुपए हड़प कर उनको फर्जी अंक तालिकाएं व डिग्रियां बनाकर देता था, उसके इस फर्जीवाडे के सेंटर में 30 कार्मिक कार्य करते हैं,जो कॉल कर छात्रों को ठगते हैं।

यह भी पढ़ें – शराब पीकर होटल आने पर टोका तो गार्ड को जान की धमकी देकर तलवार से हमला

सेंटर के दूसरे युवकों पर नकेल कसी जाएगी
यह जांच में सामने आया कि मदन लाल के कॉल सेंटर पर 30 लोग काम करते थे। पुलिस अब इन लडक़ों को लाकर भी पूछताछ कर सकती है। कई बड़े राज खुलने की संभावना बनी है। फर्जीवाड़ा बड़े स्तर पर खुल सकता है।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

 

Similar Posts