सभी श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकाला

सभी श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकाला

  • सिलक्यारा टनल हादसा
  • 17वें दिन मिली सफलता
  • मुख्यमंत्री ने की श्रमिकों से मुलाकात
  • श्रमिकों से हालचाल पूछा
  • श्रमिकों व परिजन की अश्रुधार निकल पड़ी
  • पीएम ने की खुशी जाहिर

उत्तरकाशी,उत्तराखंड के सिलक्यारा में 17 वें दिन रेस्क्यू के बाद आखिर सुरंग से 41 श्रमिकों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। इस मौके पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी घटना स्थल पर मौजूद थे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बाहर निकाले गए श्रमिकों से मुलाकात कर उनसे बात की उनके हाल चाल जाने। केंद्रीय राज्य मंत्री जनरल(सेनि) वीके सिंह भी वहीं मौजूद हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने श्रमिको और रेस्क्यू अभियान में जुटे हुए कर्मियों के मनोबल और साहस की जमकर सराहना की। बाहर निकाले गए श्रमिकों के परिजन भी टनल के पास ही मौजूद हैं। टनल से बाहर निकाले गए श्रमिकों की प्रारंभिक स्वास्थ्य प्रशिक्षण टनल में बने अस्थाई मेडीकल कैंप में की जा रही है।17 दिनों से सिलक्यारा टनल में फंसे देश के आठ राज्यों के 41श्रमिकों को आज नई जिंदगी मिली है। सफल रेस्क्यू ऑपरेशन कर सभी श्रमिकों सुरक्षित बाहर निकल गया है। सभी को एहतियात के तौर पर प्राथमिक उपचार को चिन्यालीसौड़ में बनाए गए 41 बैड के आपातकालीन अस्पताल ले जाया गया। इस अस्थाई आपातकालीन अस्पताल में पहले से ही सभी तैयारियां अस्पताल प्रशासन ने कर रखी थी। 12 नवंबर को फंसे आठ राज्यों के 41 श्रमिक टनल में मलबा आने से फंस गए थे। जिन्हें रेस्क्यू कर पाइप के माध्यम से बहार निकाल लिया गया।

यह भी पढ़ें – सोजत से अपने ससुराल पहुंचे युवक पर गांव के लोगों ने किया हमला

सभी श्रमिक स्वस्थ व सुरक्षित
सभी श्रमिक स्वस्थ्य और सुरक्षित हैं। एतिहात के तौर पर सरकार ने यहां हैलीकॉप्टर भी तैनात किया हुआ है। राज्य के मुख्य मंत्री पुष्कर सिंह धामी ने टनल से बाहर निकलते ही सभी श्रमिकों से उनकी कुशलता जानी। उनसे कहा कि उनके धैर्य बनाये रखने के लिए उनके जज्बे को सलाम और रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे सभी एजेंसियो के कार्यों की सराहना करते हुए उन्हें धन्यवाद दिया।

यह भी पढ़ें – कार के शीशे फोड़ कर चांदी और रुपए चुराने का आरोप

प्रधानमंत्री ने की खुशी जाहिर
रेस्क्यू ऑपरेशन की पल पल की सूचना ले रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सफल रेस्क्यू ऑपरेशन पर खुशी जाहिर की है।

यह भी पढ़ें – वृद्ध ने फंदा लगाकर दी जान

यूं निकाला श्रमिकों को बाहर
एनडीआरएफ ने पहले पाइप से अंदर पहुंच कर श्रमिकों का हाल जाना, उन्हें रेस्क्यू और पाइप से बाहर निकलने की बारीकियां समझाते हुए उनका सफल रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बाहर निकाला गया। मजदूरों को निकालने के लिए पाइप के अंदर एक छोटी बैरिंग की गाड़ी का इस्तेमाल भी किया गया जिसमें लिटाकर या बैठा कर श्रमिकों को टनल से बाहर निकाला गया।

यह भी पढ़ें – पश्चिमी विक्षोभ ने प्रदेश में बढ़ाई सर्दी

पीएम,सीएम का किया आभार व्यक्त
पीड़ित परिजनों व फंसे श्रमिकों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तराखंड के मुख्य मंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे सभी एजेंसी कर्मियों को धन्यवाद देते हुए बाबा बौखनाग का आभार व्यक्त किया।

यह भी पढ़ें – एनडीआरएफ की टीम टनल के अंदर श्रमिकों तक पहुंची

परिजन से मिल कर श्रमिकों के निकले खुशी के आंसू
श्रमिक अपने परिजनों से मिलकर बहुत खुश दिखे,उनके अश्रुधार निकल पड़ी। सुंरग से 17 दिनों बाद बहार निकलने पर परिजनों व लोगों की आंखों में आंसू और चेहरे पर चमक साफ दिखाई दे रही थी। बाहर निकले श्रमिकों ने कहा कि उन्हें नया जीवन मिला है। इसके लिए केन्द्र और राज्य सरकारों का बड़ा योगदान है।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

 

Similar Posts