Weekend curfew lock down again, will be up to five o'clock on Monday morning

जोधपुर, कोरोना की दूसरी लहर से संक्रमण बढऩे और इसकी रोकथाम के लिए लगाए गए वीकेंड कर्फ्यू का जोधपुर में व्यापक असर नजर आया। यहां रविवार को हर प्रमुख रोड व चौराहों पर सन्नाटा नजर आया। सारे बाजार पूरी तरह बंद रहे। जगह-जगह नाकों पर पुलिस तैनात रही। बिना वजह निकले वाहन चालकों के चालान बनाए गए। हालांकि रविवार का सार्वजनिक अवकाश होने के कारण लोग अपने घरों में ही रहे। यह वीकेंड कर्फ्यू सोमवार सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा।

Weekend curfew has widespread impact, roads are listened to

प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए दो दिन का वीकेंड कर्फ्यू शुक्रवार शाम छह बजे शुरू हो गया था जो सोमवार सुबह पांच बजे तक जारी रहेगा। इस लॉकडाउन में सिर्फ दवा, डेयरी, फल-सब्जी की दुकानें ही खुली थी। इधर शहर में आज रविवार का सार्वजनिक अवकाश होने के कारण लोग अपने घरों में ही रहे। आवश्यक काम पर जाने वाले लोग ही घरों से बाहर निकले। समूचे बाजार व दुकानें भी पूर्ण रूप से बंद रहे।

Weekend curfew has widespread impact, roads are listened to

लोगों ने घरों में रहकर वीकेंड कर्फ्यू का समर्थन किया। लोगों के नहीं निकलने से शहर की प्रमुख सड़क़ों व गलियों में भी ट्रैफिक का दबाव नजर नहीं आया। मुख्य सड़क़ों व चौराहों पर पुलिस भी मुस्तैद रही। हालांकि पुलिस को वीकेंड कर्फ्यू का पालन कराने के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी। दूध, दवा और जरूरी काम के अलावा कम लोग ही सड़क़ों पर नजर आए। कुछ लोग घरों से निकले तो पुलिस ने रोका और पूछताछ की। लॉकडाउन का अनुभव और जानकारी होने के कारण लोग घरों से बाहर नहीं निकले।

ट्रांसपोर्ट की सुविधा के अभाव में हुई परेशानी

रेल और बसों से जोधपुर आने वाले यात्रियों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा नहीं मिलने से परेशानी हुई। शहर में सिटी बसों के संचालन बंद रहने के कारण यात्रियों को पैदल-पैदल अपने सामान का बोझ उठाते हुए गंतव्य की ओर जाना पड़ा। कई ऑटो रिक्शा चालकों ने तो ऐसे यात्रियों की परेशानी का लाभ उठाते हुए मुंहमांगे दाम भी वसूले। कुछ स्थानीय लोग बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन से परिजनों के लिए गाड़ी लेकर पहुंचे थे।

डीसीपी पूर्व धर्मेंद्रसिंह यादव ने बताया कि वीकेंड कर्फ्यू पालना के लिए पुलिस नाके बना कर अधिकारी व जवान तैनात किए। यादव ने नाकों पर रूककर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। वहां से आने-जाने वाले वाहन चालकों व राहगीरों से घरों में रहने के लिए समझाइश भी की। बगैर आवश्यक सेवाओं के सड़क़ों पर निकलने वाले वाहन चालकों के चालान बनाए गए।

जरूरी सामान खरीद के लिए निकले लोग

वीकेंड कर्फ्यू के कारण सुबह-सुबह लोग दूध व डेयरी से सामान खरीदने के लिए घरों से निकले। इसके चलते एकबारगी सड़क़ों पर चहल-पहल नजर आई, लेकिन इसके बाद सड़क़ें सूनीं होने लगी। पाल रोड, दल्ले खां की चक्की चौराहे से 12वीं रोड चौराहा, 5वीं रोड से लेकर जालोरी गेट और रेलवे स्टेशन तक सन्नाटा पसर रहा। रेजीडेंसी रोड, सरदारपुरा बी व सी रोड, जलजोग चौराहा, भैरूजी चौराहा, पीडब्ल्यूडी कॉलोनी, सोजती गेट, नई सडक़, घंटाघर, मण्डोर रोड भी सूनीं रहीं। अधिकांश लोग घरों में ही सिमटे रहे।