railway-station-will-soon-be-transformed

रेलवे स्टेशन का जल्दी होगा काया पलट

रेलवे स्टेशन का जल्दी होगा काया पलट

  • वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी वाली मल्टी स्टोरी बिल्डिंग बनने लगी
  • 36 महीने में होगा कार्य पूरा
  • 32 नई लिफ्ट,16 एस्केलेटर बनेंगे
  • स्काई वॉक दोनों फुट ओवर ब्रिज को जोड़ेगी
  • मल्टी लेवल कार पार्किंग
  • एंट्री व एक्जिट के लिए अलग गेट
  • सुरक्षा जांच क्षेत्र,72 मीटर चौड़ाई का कॉन्कोर्स एरिया

जोधपुर,शहर के सिटी रेलवे स्टेशन की अब जल्दी ही काया पलटने वाली है। वर्तमान का हेरिटेज लुक बदल कर जल्द ही वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी वाली मल्टी स्टोरी बिल्डिंग नजर आएगी। मुंबई स्टेशनों की तरह स्काई वॉक जो दोनों फुट ओवर ब्रिज को जोड़ेगी। साथ ही 32 नई लिफ्ट लगेंगी। 16 ऐस्कलेटर भी लगेंगे। यह सब 36 महीनों में पूरा किया जाएगा। इसके लिए बैंगलुरु कंस्ट्रक्शन कंपनी को वर्क ऑर्डर दे दिया गया है।

रेलवे स्टेशन की जो बिल्डिंग बनेगी उसका मॉडल वीआईपी गेट के हॉल में शनिवार को स्थापित किया गया इस पर स्टेशन आने वाले सभी यात्रियों ने निहारा और तारीफ की। लोगों ने इस मॉडल के साथ सेल्फी ली और मोबाइल में भी रिकॉर्ड किया।

ये भी पढ़ें- जोधपुर-वाराणसी सिटी मरुधर एक्सप्रेस 20 जनवरी तक रद्द

475 करोड़ लागत,बनने में लगेंगे 36 महीने

रेलवे प्रशासन द्वारा जोधपुर स्टेशन का किए जाने वाले विश्वस्तरीय विकास के लिए 475 करोड़ रुपए का कार्य अवार्ड किया गया है। विकास कार्य प्रगति पर है। 36 महीनों में स्टेशन रिकंस्ट्रेक्शन का कार्य पूरा किया जाएगा।

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण के अनुसार महाप्रबन्धक विजय शर्मा के कुशल दिशा निर्देशन में जोधपुर स्टेशन के रिकंस्ट्रेक्शन का कार्य चल रहा है। रेल भूमि विकास प्राधिकरण द्वारा कार्य का बेंगलुरु की कंस्ट्रक्शन कंपनी को जारी कर दिया गया है। कंपनी द्वारा प्रतिनिधि नियुक्त कर स्टेशन विकास के लिए संसाधन जुटाने के प्रयास प्रारंभ कर दिए गए हैं।

railway-station-will-soon-be-transformed

यह होगी सुविधा

स्टेशन पर मल्टीस्टोरी बिल्डिंग बनेगी। मुख्य स्टेशन भवन में मल्टी लेवल कार पार्किंग,एंट्री व एक्जिट के लिए अलग-अलग गेट,सुरक्षा जांच क्षेत्र, 72 मीटर चौड़ाई का कॉन्कोर्स एरिया सहित 32 नई लिफ्ट एवं 16 नये एस्केलेटर लगाकर मौजूदा संख्या को बढ़ाया जाएगा। स्टेशन पर मौजूद दोनों फुटओवर ब्रिज को स्काई वॉक से जोड़ा जाएगा। स्टेशन पर अनारक्षित प्रतीक्षालय,एक्जिक्यूटिव प्रतीक्षालय,रिटेल स्टालें,शौचालय, शिशु आहार कक्ष के साथ ही समस्त प्रकार की आधुनिक यात्री सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी।

ये भी पढ़ें- रेल संचालन से जुड़े कर्मचारियों को संरक्षा मानकों के प्रति किया जागरूक

छित्तर के पत्थर,मेहराब,गुंबद आदि होंगे आकर्षण का केंद्र

जोधपुर स्टेशन का रि-कंस्ट्रेक्शन के समय शहर के स्थापत्य कला का ध्यान रखा जाएगा। बिल्डिंग में छित्तर के पत्थर की जाली कार्य, मेहराब, गुंबद, छतरी, झरोखा, बारादरी, अलंकरण,पत्थर का काम,पत्थर का आवरण, आदि होगा।

निर्माण के साथ ग्रीन एनर्जी पर जोर

पूरी परियोजना में निर्माण के साथ- साथ संचालन और रखरखाव के दौरान ग्रीन एनर्जी पर जोर दिया जाएगा। ग्रीन बिल्डिंग सुविधाएं होंगी, सोलर पैनल लगाए जाएंगे,कचरे से बिजली बना कर यूज किया जाएगा साथ ही रेन वॉटर हार्वेस्टिंग आदि बनेंगे। कैप्टन शशि किरण ने बताया कि स्टेशन विकास कार्य के लिए मौजूदा रेलवे कार्यालयों को अस्थाई तौर पर अन्य स्थानों पर स्थानांतरित किया जाएगा। पांच चरणों में स्टेशन का रिक्ंस्ट्रेक्शन होगा।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें- http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

Similar Posts