प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना से हस्तशिल्पियों के विकास का मार्ग प्रशस्त-मुख्यमंत्री

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना से हस्तशिल्पियों के विकास का मार्ग प्रशस्त-मुख्यमंत्री

  • रामलीला मैदान में पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव-2024 का आगाज
  • केन्द्र और राज्य सरकार लघु उद्योगों के विकास के लिए प्रतिबद्ध
  • आत्मनिर्भर बनाने के लिए किए जाएंगे हरसंभव प्रयास

जोधपुर,प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना से हस्तशिल्पियों के विकास का मार्ग प्रशस्त-मुख्यमंत्री। मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा ने कहा कि प्राचीन काल से ही लघु उद्योग भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विजन से लघु उद्यमी आत्मनिर्भर बन रहे हैं।राज्य सरकार भी लघु उद्योगों के विकास के लिए प्रतिबद्धता से हरसंभव सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न माध्यमों से नवीन क्षेत्रों को चिह्नित कर विकास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि लघु एवं कुटीर उद्योगों को आगे लाने की दिशा में लघु उद्योग भारती के प्रयास सराहनीय हैं।

यह भी पढ़ें – टैंपो से उतर रेलवे क्रॉसिंग पार करते युवक रेल से कटा

मुख्यमंत्री ने बुधवार को जोधपुर में पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव-2024 का उद्घाटन किया। उन्होंने उत्सव में लगी लघु उद्योगों की स्टॉल का अवलोकन कर उद्यमियों को प्रोत्साहित किया। शर्मा ने उद्यमियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि ऊर्जा क्षेत्र में राजस्थान को नई गति प्रदान करने के लिए सरकार भरसक प्रयास कर रही है। इस क्षेत्र में निरंतर कार्य करते हुए हम ऊर्जा क्षेत्र में राज्य को आत्मनिर्भर बनाएंगे। शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना से हस्तशिल्प जैसी कलाओं एवं लघु उद्योगों से जुड़े उद्यमियों के विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ है। इससे हस्त शिल्पियों को आर्थिक संबल मिलने के साथ-साथ उनकी प्रगति के अवसर सृजित हुए हैं। उन्होंने कहा कि लघु उद्योग भारती के उत्सव से हस्त शिल्पियों को अपनी कला के प्रदर्शन एवं उत्पादों की बिक्री के लिए एक उपयुक्त मंच मिला है। उन्होंने कहा कि लघु उद्योगों को प्रोत्साहन देने की दिशा में यह एक सराहनीय प्रयास है। इससे हस्तशिल्प जैसे लघु उद्योगों की एक सकारात्मक छवि का निर्माण होगा।

यह भी पढ़ें – 12 लाख चुराने के आरोप में व्यक्ति का अपहरण कर रस्सियों से बांध कर पीटा

प्रदेश में आ रहे सकारात्मक परिवर्तन
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार के निर्णयों से हर क्षेत्र में सकारात्मक परिवर्तन आ रहे हैं। गत सरकार के कई निर्णयों से प्रदेश की राजकीय विद्युत कंपनियों पर 90 हजार करोड़ रुपए का ऋणभार है। कोयले की आपूर्ति भी लगातार बाधित रही। अब हमारी सरकार के गठन के पश्चात कोयला आपूर्ति सुचारू हुई है। उन्होंने कहा कि हम आमजन को निर्बाध विद्युत आपूर्ति उपलब्ध करवाने एवं राज्य को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए संकल्पित होकर कार्य कर रहे हैं। शर्मा ने कहा कि सरकार बनने के साथ ही एक माह में आमजन को कई सौगातें दी हैं।इसमें प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 450 रुपए में गैस सिलेंडर की उपलब्धता की जा रही है। पेपरलीक की जांच के लिए एसआईटी एवं अपराधियों पर प्रभावी कार्रवाई हेतु टास्क फोर्स का गठन किया गया। अपराधी मामलों में सीबीआई को जांच के लिए सामान्य सहमति जैसे निर्णय लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जनता से किए गए सभी वादों को पूरा करने हेतु प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें – अब नहीं चलेगा कट,पात्रों को मिलेगा पूरा हक

इस अवसर पर केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत,संसदीय कार्य,विधि एवं न्याय मंत्री जोगाराम पटेल,सांसद पीपी चौधरी,सांसद राजेन्द्र गहलोत,विधायक बाबूसिंह राठौड़, देवेन्द्र जोशी,अतुल भंसाली, पूर्व सांसद नारायण पंचारिया,जसवंत सिंह बिश्नोई,लघु उद्योग भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष घनश्याम ओझा,लघु उद्योग भारती के प्रदेशाध्यक्ष शांति लाल बालड़ सहित बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

 

Similar Posts