पाली के युवक की एम्स अस्पताल में मौत, जोधपुर एम्स पर जुटेे सैकड़ों राजपूत

पाली के युवक की एम्स अस्पताल में मौत, जोधपुर एम्स पर जुटेे सैकड़ों राजपूत

एएसआई के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने की मांग

जोधपुर, एम्स अस्पताल में राजपूत समाज के लोग जुटे रहे। पाली के एक युवक की एम्स अस्पताल में मौत हो गई थी। युवक ने जहर खाकर आत्महत्या की थी। परिजन का आरोप है कि पाली के एक एएसआई ने उसे धमकाया और गिरफ्तार करने को कहा था। आहत होकर युवक ने सल्फाश की गोलियां खाई। बुधवार को दोपहर तक जोधपुर एम्स अस्पताल के बाहर गहमागहमी का माहौल बना रहा। पुलिस के आला अधिकारियों के साथ ही आरएएसी के जवानों को लगाया गया। फिलहाल शव को अस्पताल से नहीं उठाया गया है।

पाली में पुलिस की पिटाई से आहत होकर सल्फास खाकर आत्महत्या करने का प्रयास करने वाले युवक की कल देर रात एम्स में इलाज के दौरान मौत हो गई। युवक के परिजनों सहित अन्य लोगों ने नया बस स्टैंड चौकी प्रभारी ओमप्रकाश चौधरी के मारपीट करने से आहत होकर जहर खाने का आरोप लगाते हुए शव उठाने से मना कर दिया। परिजनों की मांग है कि चौकी प्रभारी ओमप्रकाश को गिरफ्तार किया जाए। युवक की मां सहित अन्य परिजनों का कहना था कि मोबाइल चोरी के एक मामले में युवक को रात मेें जबरन पकड़क़र चौकी ले गए, जहां पर उसके साथ चौकी प्रभारी ने बेरहमी से मारपीट की।

पाली के बांगड़ अस्पताल में परिजनों के हंगामा मचाने के बाद एसपी राजन दुष्यंत ने एएसआई ओमप्रकाश को लाइन हाजिर कर दिया। कोतवाली पुलिस ने युवक की बहन सागर कंवर की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज किया है। मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष जस्टिस जीके व्यास ने प्रसंज्ञान लेकर एसपी से रिपोर्ट मांगी है।

यह था मामला

पाली में ही रहने वाले राहुल सांसी नामक युवक ने मोबाइल चोरी होने की रिपोर्ट दी थी। जांच के दौरान पता चला कि यह मोबाइल केशव नगर में रहने वाले मुकुनसिंह पुत्र नाथूसिंह राजपूत के पास है। युवक के रेडिमेड की दुकान है। परिजनों का कहना है कि उक्त मोबाइल एक युवक ने 3 हजार रुपए में गिरवी रखा था। यह बात पुलिस चौकी प्रभारी ओमप्रकाश चौधरी को भी बताई गई। इसके बाद भी उसे जबरन अपने साथ चौकी ले गए। युवक की मां का कहना है कि चौकी प्रभारी ने उसके साथ भी दुर्व्यवहार किया। बेटे को पुलिस चौकी में ले जाने के बाद बेरहमी से पीटा गया।

घर आकर खाई सल्फाश की गोलियां

परिजन का आरोप है कि मुकुनसिंह ने चौकी से घर आने के बाद सल्फास की गोलियां खाकर जान देने की कोशिश की। तबीयत बिगड़ऩे पर उसे बांगड़ अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए जोधपुर एम्स रैफर कर दिया गया। एम्स में इलाज के दौरान देर रात उसकी मौत हो गई। अब परिजन ओमप्रकाश की गिरफ्तारी पर अड़े हुए हैं।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews