Dispute over recruitment of patients, nurses and leaders face to face in MDMH
  • पुलिस के समय पर नहीं आने से बढ़ा मामला
  • एक को उठा ले गई पुलिस

जोधपुर, शहर के मथुरादास माथुर अस्पताल में देर रात साढ़े 11 बजे नर्सेज और स्थानीय नेताओं के बीच मरीज के उपचार को लेकर बोलचाल पर विवाद हुआ। मामला धीरे-धीरे तूल पकड़ऩे लगा। महिला कांस्टेबल का गिरफ्तार करने के नाम पर टरका दिया। जब तक अधिकारी पहुंचते तब तक मामला बढ़ गया। आखिरकार पुलिस ने एक व्यक्ति को उठाया और थाने ले गई। देर रात तक पुलिस थाने में काफी लोग एकत्र हो गए। मीडियाकर्मी से बदतमीजी की गई।

सूत्रों के मुताबिक मथुरादास माथुर अस्पताल में रात साढ़े 11 बजे के आस पास कांग्रेस के एक दो नेता पहुंचे थे। वहां पर किसी निशक्त मरीज को भर्ती करने की बात को लेकर नर्सेज से विवाद हो गया और वे बदतमीजी पर उतर आए। तब कंपाउंडर दिलशाद और रेजीडेंट डॉक्टर राजीव से भी इन लोगों की धक्कामुक्की के साथ बोलचाल हुई। मामले की समझाइश को लेकर पहले एमडीएमएच चौकी की एक महिला कांस्टेबल पहुंची थी। तब उन्हें गिरफ्तार करने के लिए बाध्य करने के लिए टरका दिया गया।

नर्सेज व डॉक्टर पुलिस के आलाधिकारियों को बुलाने की मांग एवं कार्रवाई को लेकर कामकाज को छोड़ दिया। नर्सेज आदि कोरोना विंग से बाहर आ गए। तब बाद में शास्त्री नगर थानाधिकारी पंकज राज माथुर पहुंचे। उनसे भी युवकों द्वारा बदतमीजी देखी गई। तब एक शख्स को उन्होंने गाड़ी में थाने ले जाने का आदेश दे दिया। नर्सेज काम छोड़ऩे के साथ अस्पताल प्रशासन के चेंबर कक्ष में जाकर बैठ गए। एसीपी पश्चिम नूर मोहम्मद भी थाने पहुंचे और यथास्थिति का जायजा लिया। देर रात तक पुलिस पकड़े गए व्यक्ति से पूछताछ कर रही थी। नर्सेज का यह भी आरोप था कि बदतमीजी करने वाले खुद को स्थानीय कांग्रेस नेता बता रहे थे।

ये भी पढ़े :- कोरोना संक्रमण के कारण रद्द ट्रेनों की सूची जारी