case-of-death-of-cousin-brother-in-road-accident-double-murder-turned-out-to-be-not-accident

सड़क हादसे में मौसेरे भाई बहन की मौत का मामला : हादसा नहीं दोहरा हत्याकांड निकला

  • लूणी में आज भी बाजार बंद
  • लोगों में घटना को लेकर रोष
  • लूणी थाने में हत्या का मामला दर्ज -नहीं उठाए शव
  • मृतकों के आश्रितों को 50-50 लाख मुआवजा और अन्य मांगे रखी
  • एमडीएम मोर्चरी पर पहुंचे जनप्रतिनिधि

जोधपुर, शहर में निकट लूणी कस्बे में सोमवार की सुबह हुई सड़क दुर्घटना में मौसेरे भाई बहन की मौत सड़क हादसा नहीं होकर हत्या निकली है। पुलिस ने दोहरे हत्याकांड आज खुलासा करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिनसे अब पूछताछ चल रही है। हत्याकांड में मास्टर माइंड की पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। मामले में एक महिला की संदिग्ध भूमिका की भी जांच की जा रही है। फिलहाल उसके पकड़े जाने पर ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

case-of-death-of-cousin-brother-in-road-accident-double-murder-turned-out-to-be-not-accident

हत्या के लिए पिछले एक माह से योजना बनाई जा रही थी। मास्टर माइंड ने ही हत्या से पहले रैकी की थी। हालांकि पुलिस ने मामले का खुलासा कर दिया है। मगर शव आज दूसरे दिन भी नहीं उठाए गए। परिजन मुआवजा की मांग पर अड़े हुए हैं। शवों का पोस्टमार्टम भी करवाया जाना है। आज सुबह लूणी क्षेत्र के कई गांवों से ग्रामीण गाडिय़ों में सवार होकर मथुरादास माथुर अस्पताल पहुंचे। यहां पर मोर्चर के बाहर प्रदर्शन किया, साथ ही लूणी कस्बा आज भी बंद रहा।

case-of-death-of-cousin-brother-in-road-accident-double-murder-turned-out-to-be-not-accident

जिला पश्चिम के पुलिस उपायुक्त गौरव यादव ने बताया कि मामला हत्या का निकला है। इसमें रैकी करने से लेकर एक माह से इसकी प्लानिंग चल रही थी। रैकी करने वाला शंकर हाथ नहीं लगा है। घटनाक्रम में अभी रमेश माली,सोहन एवं राकेश नाम के शख्स को डिटेन किया गया। जिनसे गहन पूछताछ चल रही है। आरंभिक जांच में सामने आया कि यह लोग एक माह से इसकी साजिश रच रहे थे। मृतक रमेश पटेल इनका टारगेट था।

case-of-death-of-cousin-brother-in-road-accident-double-murder-turned-out-to-be-not-accident

सोमवार की सुबह से ही गांव वालों ने एसयूवी कार द्वारा रैकी की बात बताई थी। पुलिस ने वक्त घटना ही ग्रामीणो की मदद से रमेश माली को पकड़ लिया था। जिससे हुई पूछताछ में बाद में यह खुलासा हो गया। पुलिस उपायुक्त यादव ने बताया कि घटना में एक महिला का भी नाम आ रहा है, मगर वह अभी नहीं मिली है। पुलिस उसकी भी तलाश कर रही है। मुख्य आरोपी शंकर है जो फरार है। उसके मिलने पर ही पूरे मामले का खुलासा और अच्छे से किया जा सकता है।

कार राकेश के नाम, पैसा शंकर का

जानकारी में सामने आया कि यह कार राकेश के नाम की थी। जिसमें पैसा शंकर ने लगाया था। राकेश,रमेश और सोहन ने मिलकर यह कार ली थी।

हत्या की वजह ढूंढ रही पुलिस

पुलिस उपायुक्त गौरव यादव ने बताया कि हत्या का मोटिव तलाशा जा रहा है। मगर अभी कुछ बताना जल्दबाजी होगी। इसमें रमेश के साथ उसका कोई विवाद हो सकता है।

यह है मामला

घटना लूणी थाना क्षेत्र के सर गांव की सरहद पर सोमवार की सुबह करीब 9 बजे का है। कविता पटेल ने पटवारी 2021 का एग्जाम दिया था। इसके बाद सोमवार को जोधपुर तहसील ऑफिस में पहली बार जॉइन करना था। कविता रोहिचा कलां गांव की रहने वाली है। सर गांव में उसका ससुराल है लेकिन ससुराल व पीहर पक्ष के लोग कर्नाटक में रहते हैं। इसी गांव में मौसी का बेटा रमेश पटेल रहता है। लूणी से जोधपुर की दूरी करीब 37 किलोमीटर है। ऐसे में रमेश मौसी की बेटी कविता को बाइक पर ही जोधपुर के लिए रवाना हो गया। गांव से निकलते ही एक एसयूवी कार ने टक्कर मार दी।

हादसे में दोनों की मौत, परिजन का आरोप हादसा नहीं है

हादसे के बाद ड्राइवर रुका नहीं। वह दोनों भाई-बहन को घसीटते हुए ले गया। हादसे में रमेश एक तरफ नीचे गिरा तो दूसरी तरफ उछल कर कविता गिरी। इस हादसे के बाद दोनों भाई- बहन के शव को जोधपुर के शास्त्री नगर स्थित मथुरा दास माथुर अस्पताल लाया गया। हादसे के बाद लोगों ने आरोप लगाया कि जानबूझ कर दोनों भाई-बहन की हत्या की गई।

मौसेरे भाई का वीडीओ में हुआ था सलेक्शन:-

कविता की शादी एक साल पहले हुई थी। कविता का परिवार और ससुराल दोनों कर्नाटक में रहते हैं। मृतका के पति का मिठाई का कारोबार है। रमेश की शादी तीन साल पहले हुई थी। उसका भी ग्राम विकास अधिकारी परीक्षा में सलेक्शन हो चुका था। कविता एक महीने पहले ही मौसी के यहां आई थी। इधर, घरवालों को सूचना मिलते ही वे राजस्थान के लिए रवाना हो गए है। एसयूवी कार से कुछ हॉकी स्टिक व बेसबाल बेट बरामद हुए थे।

दूसरे दिन भी शव उठाने का लेकर गतिरोध

शवों को उठाने को लेकर आज दूसरे दिन भी गतिरोध बना रहा। दोपहर तक शवों का पोस्टमार्टम भी नहीं करवाया जा सका। मृतक के आश्रितों को 50-50 लाख मुआवजा, सरकारी नौकरी, मर्डर में शामिल लोगों को गिरफ्तार करने, कार पहले से ही रैकी कर रही थी, जिसकी जांच करने सहित अन्य कई मांगे रखी हैं। कार मालिक का पता लगाया जा जाए। कार के नंबर प्लेट भी नहीं लगी थी। कार मालिक का इसमें क्या रोल है इसका भी पता लगाया जाए एवं गिरफ्तार किया जाए।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews