कस्टम ऑफिसर बनकर लाखों की ठगी करने वाला पंजाब से गिरफ्तार

कस्टम ऑफिसर बनकर लाखों की ठगी करने वाला पंजाब से गिरफ्तार

उत्तरप्रदेश के एक व्यक्ति की तलाश जारी

जोधपुर, शहर के एक युवक को कस्टम ऑफिसर बनकर ठगी करने वाले एक युवक को पुलिस ने पंजाब के जालंधर से गिरफ्तार किया है। अभियुक्त से अब पूछताछ की जा रही है। उसने स्थानीय युवक से 3.70 लाख की ठगी की थी। इसमें एक उत्तरप्रदेश का युवक भी शामिल बताया जाता है। जिसकी तलाश की जा रही है। पुलिस की एक टीम आरोपी को पंजाब से लेकर आई। इसमें पंजाब पुलिस का भी सहयोग लिया गया।

शास्त्रीनगर थाने के एसआई प्रहलाद राम ने बताया कि 16 दिसम्बर 20 में भगत की कोठी निवासी गिरिश खत्री की तरफ से रिपोर्ट दी गई थी। इसमें बताया कि उसके किसी शख्स का फोन आया और बताया कि वह बार्डर से बोल रहा है और कस्टम का ऑफिसर है। आपकी रिश्तेदार को पकड़ा गया है। उसे छुड़ाने के लिए 39 हजार 900 रूपए भेजें। तब एक शख्स ने पंजाब के जालंधर निवासी विनय कुमार पुत्र अमृतलाल खत्री ने उससे बात की थी। रूपयों को ऑन जमा करवाने को कहा गया। विनय खत्री ने गिरिश का रिश्तेदार बनकर बात की थी।

गिरिश वक्त घटना उलझन मेें पड़ गया। उसके रिश्तेदार वास्तव में विदेश में भी रहते हैं। ऐसे में उसने सोचा कि रिश्तेदार को बार्डर पर कस्टम वालों ने पकड़ा है और पैसे मांग रहे हैं। तब उसने विनय खत्री नाम के शख्स के खाते में रूपए डलवा दिए। बाद उससे उक्त रूपयों को जमा करवाने के एक घंटे बाद फिर कॉल आया कि खाते में 1.45 लाख और डाले तब जाकर कस्टम क्लीयरेंस होगा। 15 दिसम्बर 20 को फिर कॉल आया कि 1.30 लाख रूपए और डाले जाएं। तब निफ्ट के जरिए गिरिश खत्री में यह रकम भी जमा करवा दी। फर्जी कस्टम अधिकारी बने ठगों ने रूपयों को विदेशी करेंसी बताकर रूपए जमा करवाते रहे।

एसआई प्रहलादराम ने बताया कि यह रूपए पंजाब के जालंधर निवासी विनय खत्री पुत्र अमृतलाल के खाते में जमा हुए थे। ऐसे में अब उसे पंजाब से गिरफ्तार कर लाया गया है। आरोपी से पूछताछ जारी है। घटना में एक उत्तरप्रदेश का शख्स भी शामिल है। फिलहाल उसका पता नहीं चला है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews