छह दिवसीय निःशुल्क अर्श भगंदर शल्य चिकित्सा शिविर का शुभांरभ

छह दिवसीय निःशुल्क अर्श भगंदर शल्य चिकित्सा शिविर का शुभांरभ

आयुर्वेद विश्वविद्यालय चिकित्सालय में लगा निःशुल्क शिविर

जोधपुर,छह दिवसीय निःशुल्क अर्श भगंदर शल्य चिकित्सा शिविर का शुभांरभ। कुलपति वैद्य प्रो.प्रदीप कुमार प्रजापति की प्रेरणा से डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय,जोधपुर के तत्वावधान में स्नातकोत्तर शल्य तंत्र विभाग द्वारा सोमवार को छह दिवसीय निःशुल्क शल्य चिकित्सा शिविर का शुभारम्भ हुआ।इस अवसर पर कुलसचिव सीमा कविया ने भगवान धन्वन्तरि के समक्ष दीप प्रज्वलित एवं माल्यार्पण कर शिविर का शुभारम्भ किया। कुलसचिव ने अपने उद्बोधन में विभिन्न गुदा रोगों अर्श (मस्सा),भगन्दर (नासूर) तथा गुदा में संक्रमण एवं जलन से बचाव के लिए आहार एवं जीवनशैली पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यदि मनुष्य ऋतु अनुसार एवं उचित समय पर भोजन ग्रहण करे तो गुदा रोगों से बचा जा सकता है।उन्होंने कहा कि गुदा रोगों की चिकित्सा में क्षारसूत्र चिकित्सा पद्धति अन्य चिकित्सा पद्धतियों की तुलना में उपद्रव रहित एवं सफल चिकित्सा है।गुदा रोगों से बचाव के अन्य उपायों की चर्चा करते हुए अत्यंत तीक्ष्ण,उष्ण,अम्ल भोजन से बचने तथा अधिक समय तक खड़े रहने या अधिक पैदल चलने से बचने की सलाह देते हुए पर्याप्त पानी पीने तथा गाजर,मूली,हरी पत्तेदार सब्जियाँ आदि रेशेदार खाद्य-पदार्थों के अधिक उपयोग पर बल दिया।

यह भी पढ़ें – जमीन विवाद में दो युवकों पर लाठियों और सरिया से जानलेवा हमला

इस मौके पर स्नातकोत्तर शल्य तंत्र विभाग के विभागध्यक्ष प्रो. डॉ राजेश कुमार गुप्ता,डॉ. विष्णु दत्त शर्मा एवं डॉ.संजय श्रीवास्तव के साथ निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ पीएस जोधा,अधीक्षक प्रो.प्रमोद कुमार मिश्रा,स्वस्थ वृत विभागाध्यक्ष डॉ. ब्रह्मानंद शर्मा एवं सभी शल्य स्नातकोतर अध्यता उपस्थित थे।स्नातकोत्तर शल्य तंत्र विभागाध्यक्ष प्रो.राजेश कुमार गुप्ता ने बताया कि इस निःशुल्क शल्य चिकित्सा शिविर ने मस्सा,नासूर,गुदा में जलन का इलाज क्षार सूत्र पद्धति से किया जा रहा है। इस चिकित्सा शिविर में गृधसी,सन्धिवात,आयटन, पुराने घाव (व्रण),मधुमेहजन्य व्रण आदि रोगों का भी अग्नि कर्म एवं जलौका के द्वारा इलाज किया जायेगा। चिकित्सालय अधीक्षक प्रो.प्रमोद कुमार मिश्रा ने बताया कि पहले दिन सोमवार को लगभग 35 रोगियों का पंजीकरण किया गया, जिसमें से 07 रोगियों का ऑपरेशन किया गया। उन्होंने कहा कि इस विशिष्ट चिकित्सा शिविर में रोगियों को निःशुल्क चिकित्सा के साथ भोजन इत्यादि सुविधाएं निःशुल्क प्रदान की जा रही हैं।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

 

Similar Posts