3 महीने के बच्चे का हार्ट ऑपरेशन कर दिया जीवनदान

3 महीने के बच्चे का हार्ट ऑपरेशन कर दिया जीवनदान

जोधपुर,3 महीने के बच्चे का हार्ट ऑपरेशन कर दिया जीवनदान।मथुरादास माथुर अस्पताल के पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजी डिवीजन की नव स्थापित कैथ लैब में जटिल बीमारी coarctation ऑफ aorta का इंटरवेंशन विधि से बैलून डिलेटेशन प्रोसीजर कर जीवन दान दिया।
कॉलेज के प्रिंसिपल एवं कंट्रोलर डॉ दिलीप कच्छवाहा,अस्पताल के अधीक्षक डॉ विकास राजपुरोहित ने पीडियाट्रिक विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ मनीष पारख एवं पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजी टीम को बधाई दी।

यह भी पढ़ें – आधी रात को घर से लापता व्यक्ति का शव संदिग्ध हालात में मिला

कॉलेज प्रवक्ता डॉ जयराम रावतानी बताया कि यह ऑपरेशन इमरजेंसी में आयुष्मान योजना के तहत निःशुल्क किया गया है।पीडियाट्रिक कार्डियो लॉजिस्ट डॉक्टर विकास आर्य ने बताया कि महाधमनी का संकुचन (coarctation ऑफ aorta) सबसे आम तौर पर समीपस्थ वक्ष महाधमनी का एक असतत स्टेनोसिस है। इस बीमारी की नैदानिक प्रस्तुति भी भिन्न- भिन्न होती है जिसमें शैशवावस्था में हृदय विफलता से लेकर बड़े बच्चे या वयस्क में उच्च रक्तचाप तक शामिल है। उपचार के विकल्पों में सर्जिकल मरम्मत और परक्यूटेनियस बैलून एंजियोप्लास्टी या स्टेंटिंग शामिल हैं।
जन्मजात हृदय रोग वाले लगभग 6% से 8% रोगियों में महाधमनी का संकुचन होता है।

यह भी पढ़ें – दो सूने मकानों से चोरों ने किया लाखों के जेवर नगदी पार

आम तौर पर जीवन के पहले वर्ष के दौरान हृदय कैथीटेराइजेशन या सर्जरी की आवश्यकता वाली बीमारियों में इस बीमारी का चौथा स्थान है। एमडीएम अस्पताल जोधपुर में एक 3 महीने का शिशु इस बीमारी से ग्रसित था एवं उसका हृदय पंपिंग केवल 15 से 20 प्रतिशत था। जिसके लिए एमडीएम अस्पताल में डॉक्टर विकास आर्य सहायक आचार्य पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजी से संपर्क किया गया एवं बच्चे को आईसीयू में भर्ती कर प्रारंभिक स्थिरता दी गई। उसके बाद प्रोसीजर (बैलून द्वारा महाधमनी को चौड़ा) किया गया। ऑपरेशन के बाद बच्चे को 24 घंटे वेंटीलेटर पर रखा गया एवं 3 दिन बाद जब बच्चे का हृदय पंपिंग 50-60% हो गया तो छुट्टी दे दी गई। बच्चे के माता पिता ने पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजी टीम का आभार व्यक्त किया। पेडियाट्रिक कार्डियोलॉजी टीम से डॉ जेपी सोनी आचार्य,पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजिस्ट डॉ विकास आर्य सहायक आचार्य एवं सहआचार्य डॉक्टर संदीप चौधरी ने ऑपरेशन किया। ऑपरेशन में निश्चेतना विभाग के आचार्य डॉक्टर राकेश कर्णावत,सहायक आचार्य डॉ गायत्री,डॉक्टर श्रव्या,सीनियर स्टाफ दिनेश गोस्वामी,आसिफ खान,कैथ लैब टेक्नीशियन धर्मेंद्र मरेठा,स्टाफ लीला,नीलम,जितेंद्र का इलाज में अहम सहयोग रहा।

यह भी पढ़ें – नवजीवन संस्थान व केन्द्रीय कारागृह का औचक निरीक्षण

सहायक आचार्य डॉ विकास आर्य ने बताया कि पिछले 1 साल से नियमित रूप से आयुष्मान योजना के अंतर्गत बाल हृदय रोगों के ऑपरेशन निःशुल्क हुए है। जिसमे 10 PDA device closure (5महीने से 5 साल),5 ASD device closure(3 साल से 9साल के बच्चे),5 BPV (3महीने से 13 साल) एवं 5 डायग्नोस्टिक एवं कई और कार्डियक कैथ लैब प्रोसीजर हुए हैं।बाल हृदय रोग ओपीडी शनिवार(डॉ विकास आर्य) शुक्रवार (डॉ संदीप)एवं बुधवार (डॉ जेपी सोनी) द्वारा एमडीएम 5 न.ओपीडी में होती है।

दूरदृष्टि न्यूज़ की एप्लीकेशन यहाँ से इनस्टॉल कीजिए – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews

 

Similar Posts