स्कूल में मनाया दशहरा

स्कूल में मनाया दशहरा

जोधपुर, दिल्ली पब्लिक प्राइमरी स्कूल प्रतापनगर सभी त्योहारों को धूमधाम से मनाया जाता है। स्कूल में
सभी छात्रों को देश की सांस्कृति को समझने का अवसर मिलता है। दशहरा एक लोकप्रिय हिंदू
त्योहार है जो बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देता है। यह उस दिन का प्रतीक है जिस दिन भगवान राम
ने राक्षस राजा रावण को मारकर बुराई का अंत किया था। इस बार पीजी से केजी तक के छात्रों ने ऑनलाइन
कक्षाओं के दौरान वर्चुअल दशहरा मनाया।

दशहरा मनाने की कहानी वीडियो और पावरपॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से छात्रों को दिखाई गई। सभी शिक्षकों ने इस पर्व को मनाने के महत्व और रीति रिवाजों के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम में प्लेग्रुप से छः तक के विद्यार्तियों ने भाग लिया और विभिन्न गतिविधियों में भागीदारी निभाई। इस अवसर पर विद्यार्तियों ने स्कूल द्वारा आयोजित दशहरा शिल्प में बड़े उत्साह के साथ भाग लेकर विभिन्न कलाकृतियां बनाई।
प्लेग्रुप के विद्यार्तियों ने दशहरा मनाने के लिए सुनहरे व काले कागज से रावण का पुतला बनाया। नर्सरी के नर्सरी के विद्यार्तियों ने श्लोकों का पाठ, केजी ने रामायण की प्रस्तुति दी।

कक्षा 4 की छात्रा लावण्या शेखावत, 5 के शिवम थानवी, 6 की प्रिशा लपसिया और युवाक्षी सिंह पंवार ने इस दिन को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाने के लिए कागज के लालटेन बनाए। इस अवसर पर संस्था निदेशक डॉ ज्योत्सना शेखावत ने छात्रों से कहा कि दशहरे का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। हालाँकि सभी धर्मों के लोग रावण दहन को देखते हैं। यह लोगों को एकजुट करता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दशहरा हमें सिखाता है कि अच्छाई हमेशा बुराई को मात देती है और वह प्रकाश हमेशा अंधेरे पर विजय प्राप्त करता है। प्रिंसिपल विजय लक्ष्मी राठौर ने कहा कि दशहरा सत्य और धर्म के महत्व को दर्शाता है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews