राजसमंद का वांछित अपराधी जोधपुर में नाकाबंदी में पकड़ा गया

राजसमंद का वांछित अपराधी जोधपुर में नाकाबंदी में पकड़ा गया

  • फोरच्यूनर कार में था सवार
  • हत्या प्रयास और आर्म्स एक्ट में वांछित

जोधपुर, कृमिश्नरेट स्पेशल टीम (सीएसटी) ने बनाड़ थानान्तर्गत पुलिस चौकी डिगाड़ी के सामने नाकाबंदी कर एक फॉरच्युनर में घूम रहे वांछित आरोपी शंकरलाल विश्नोई को दस्तयाब करते हुए लग्जरी वाहन से दो फर्जी नंबर प्लेट बरामद की है। आरोपी शंकरलाल राजसमंद जिले के भीम थाने में दर्ज हत्या का प्रयास व आर्म्स एक्ट के मामले में वांछित चल रहा था। उसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट,चोरी, मारपीट, लूट, अपहरण व धोखाधड़ी के करीब आठ मामले दर्ज हैं।

सीएसटी टीम के प्रभारी पुलिस निरीक्षक भारत रावत ने बताया है कि पुलिस आयुक्त जोस मोहन व उपायुक्त क्राइम राजकुमार चौधरी के दिशा निर्देशन में चोरी के वाहन रखने वालों व वांछित एवं फरार आरोपियों की धरपकड़ के लिए कमिश्नरेट स्पेशल टीम (सीएसटी) द्वारा विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में आज सीएसटी प्रभारी रावत को मुखबिर से सूचना मिली कि राजसमंद जिले के भीम थाने में दर्ज हत्या का प्रयास व आर्म्स एक्ट के मामले में वांछित चल रहा आरोपी शंकरलाल विश्नोई चोरी की गई एक फॉरच्युनर में सवार होकर डिगाड़ी फांटा की तरफ से जाने वाला है।

सीएसटी प्रभारी भारत रावत ने पुलिस चौकी डिगाड़ी को सूचना देते हुए मय जाब्ता चौकी के सामने बेरिकेटिंग करते हुए नाकाबंदी की। कुछ ही देर बाद शिकारगढ़ की तरफ से एक सफेद रंग की संदिग्ध फॉरच्युनर गाड़ी आती हुई दिखी, जिसके बाद पुलिस ने उक्त लग्जरी वाहन को रूकवाकर चालक से उसके नाम, पते पूछे तो उसने अपना नाम डांगियावस थानान्तर्गत धायलों की ढाणी निवासी शंकर लाल पुत्र गोकुल राम विश्नेाई होना बताया। बाद में फॉरच्युनर गाड़ी के बारे में पूछने पर शंकरलाल ने बताया कि उक्त गाड़ी जोधपुर कमिश्नरेट के पूर्व जोन के रातानाडा थाने में पदस्थापित एएसआई पूनाराम जाट (गोरचिया) से मांग कर लाना बताया और ये भी बताया कि उक्त गाड़ी एएसआई पूनाराम का बेटा ऊर्जाराम काम में लेता है।

फर्जी नंबर प्लेट लगा रखी थी

सीएसटी ने फॉरच्युनर पर लगी नंबर प्लेट के नंबरों को राज कॉप ऐप में चैक किया तो उक्त नंबर वास्तविक में फॉर्ड एन्डीवर लग्जरी कार के पाए गए। जिसके बाद पुलिस ने उक्त फॉरच्युनर की तलाशी ली तो उसके अंदर दो फर्जी नंबर प्लेट भी मिली। जिसके बाद सीएसटी टीम ने उक्त नंबर प्लेटों के बारे में भी राज कॉप ऐप पर चैक किया तो एक नंबर प्लेट के वाहन की कोई भी डिटेल नहीं मिली। दूसरी नंबर प्लेट के बारे में जब जानकारी जुटाई तो ज्ञात हुआ कि उक्त नंबर फॉरच्युनर का है। इस नंबर के चैसिस नंबर व इंजन नंबर जब पकड़े गए वाहन से क्रॉस चैक किए तो वह वास्तविक पाए गए। जिसके बाद सीएसटी टीम को ज्ञात हुआ कि उक्त फॉरच्युनर के है और वह जयपुर से चुराई गई है।

राजसमंद में वांछित चल रहा

शंकरलाल विश्नोई से और पूछताछ की तो पता चला कि वह राजसमंद जिले केे भीम थाने में दर्ज हत्या के प्रयास के मामले में वांछित चल रहा है और उसने व उसके साथियों ने नाकाबंदी के दौरान पुलिस जाब्ते को जान से मारने का प्रयास करते हुए फायर भी किए थे। सीएसटी पुलिस ने वांछित आरोपी शंकरलाल को दस्तयाब कर बनाड़ थाने के सुपुर्द किया।

आठ मामले है दर्ज

रावत ने बताया कि फर्जी नंबर प्लेट लगाकर फॉरच्युनर में घूम रहे शंकरलाल विश्नोई के खिलाफ पूर्व में एनडीपीएस एक्ट, चोरी, मारपीट, हत्या का प्रयास, लूट, अपहरण व धोखाधड़ी के आठ मामले दर्ज हैं।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews