दिमाग में घुसी 8 नुकीली कीलें बाहर निकाली

दिमाग में घुसी 8 नुकीली कीलें बाहर निकाली

एमडीएम अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में हुआ सफल ऑपरेशन

जोधपुर,मेडिकल कालेज से सम्बद्ध एमडीएम अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में 26 वर्षीय युवक के दिमाग में धंसी 8 कीलें ऑपरेशन कर सफलता पूर्वक बाहर निकाली। शरीर के बेहद नाजुक हिस्से दिमाग के इस ऑपरेशन में चिकित्सकों की पारंगता से मरीज की जान बच गई।

न्यूरो सर्जरी विभाग के यूनिट बी प्रभारी व आचार्य डॉ. शरद थानवी ने बताया कि मरीज को गत 18 दिसंबर को अस्पताल लाया गया था। मरीज के हैंडीक्राफ्ट का कार्य करते हुए ड्रील मशीन से सिर में कीलें घुस गई। एक्सरे व सीटी स्कैन में पता चला कि कीले दिमाग में बेहद गहराई तक प्रवेश कर गई। एक कील तो दिमाग की दीवार तक जा पहुंचीं।

दिमाग में घुसी 8 नुकीली कीलें बाहर निकाली

डॉ.थानवी के अनुसार इस प्रकार के ऑपरेशन में मरीज की जान को खतरा रहता है, लकवा भी मार सकता है। संपूर्ण खतरे के मद्देनजर मरीज का ऑपरेशन दो चरणों में प्लान किया गया। यूनिट बी के सहआचार्य डॉ. शैलेष थानवी, सहायक आचार्य डॉ. हेमंत बेनीवाल, सीनियर रेजिडेंट डॉ. विजयवीर सिंह व डॉ.संदीप की टीम ने प्रथम चरण के तहत ऑपरेशन कर बायीं ओर से 7 कीले बाहर निकाल डाली। दूसरे दिन दायीं तरफ का ऑपरेशन कर 8वीं कील को सफलता पूर्वक बाहर निकाल लिया।

सेप्टिसीमिया के खतरे से बचाया

डॉ. थानवी के अनुसार ऐसे ऑपरेशन में फॉरेन बॉडी पार्टिकल या डस्ट आदि दिमाग में छूट जाने का खतरा रहता है। इससे सेप्टिसीमिया यानी संक्रमण की प्रबल संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इस ऑपरेशन को चिकित्सकों ने कुशलता पूर्वक करने के साथ टांके आदि भी खोले गए और 10 दिन बाद मरीज को डिस्चार्ज कर दिया। इस ऑपरेशन में एनेस्थेसिया विभाग से डॉ. शोभा उज्जवल, डॉ. ओपी सैनी, डॉ. मोनिका,डॉ. अंकित, डॉ. हेमा, डॉ.वैशाली, नर्सिंग स्टाफ मुरली व युवराज का सहयोग रहा। इस ऑपरेशन के बाद प्रिंसिपल डॉ. एसएस राठौड़ व एमडीएमएच अधीक्षक डॉ. महेंद्र आसेरी ने पूरी टीम को बधाई दी।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews