रेलवे ने कम्पनी से तोड़ा वाटर कूलर लगाने का ठेका, सिक्योरिटी के डूबे 8.50 लाख

रेलवे ने कम्पनी से तोड़ा वाटर कूलर लगाने का ठेका, सिक्योरिटी के डूबे 8.50 लाख

  • सूरत कंपनी को दिया गया था ठेका
  • अब दंपती के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज

जोधपुर, गुजरात के सूरत की एक फर्म को रेलवे स्टेशन के जोन में वाटर कूलर मशीनें लगाने का ठेका दिया गया था। कंपनी ने बाद में जोधपुर के एक स्थानीय व्यक्ति को काम किराया पर दे दिया। मगर ना तो कंपनी ने काम समय पर किया और ना ही स्थानीय व्यक्ति ने। रेलवे ने कंपनी से ठेका निरस्त कर दिया। मगर अब स्थानीय व्यक्ति के साढ़े आठ लाख रूपए इसमें फंस गए। इस पर उसने कंपनी के दंपती मालिक के खिलाफ उदयमंदिर थाने में केस दर्ज कराया है। पुलिस ने घटना में अनुसंधान आरंभ किया है।

उदयमंदिर पुलिस थाने के एएसआई भंवराराम ने बताया कि इस बारे में कलाल कॉलोनी बी स्कीम में रहने वाले किशनलाल पुत्र रेवाचंद की तरफ से रिपोर्ट दी गई। इसमें बताया कि गुजरात के सूरत की एक फर्म वाटरचरो सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड के मालिक प्रकाश शाह को उसने सिक्योरिटी पेठे साल 16 जून 2019 में साढ़े आठ लाख रूपए दिए थे। इस कंपनी का रेलवे से वाटर कूलर मशीन लगाने का ठेका उठता है। कंपनी को ठेका रेलवे की तरफ से पूरे रेलवे जोन में वाटर कूलर मशीनें के लिए दिया जाता है।

जोधपुर रेलवे स्टेशन के लिए पांच मशीनें लगाने के लिए ठेका था। उसके पेटे किशनलाल ने साढ़े आठ लाख रूपए कंपनी को दिए थे। एएसआई भंवराराम ने बताया कि न तो कंपनी की तरफ से और न ही स्थानीय प्रतिनिधि जिसने ठेके का काम किराए पर लिया। दोनों ने ही शर्तें पूरी नहीं की। ऐसे में रेलवे ने ठेका बंद कर दिया। अब इसमें स्थानीय प्रतिनिधि किशनलाल के रूपए फंस गए है। ऐसे में उसने कंपनी चलाने वाले प्रकाश शाह और उसकी पत्नी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज करवाया है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews