थानाधिकारी और एक सिपाही निलंबित,तीन पुलिस कर्मी लाइन हाजिर

पुलिस हिरासत में युवक की मौत का मामला

थानाधिकारी और एक सिपाही निलंबित,तीन पुलिस कर्मी लाइन हाजिर

जोधपुर, जिले के लोहावट पुलिस थाना क्षेत्र में दुष्कर्म व अपहरण के मामले में सह आरोपी अनूपगढ़ के राजू नायक की पुलिस की हिरासत में मौत का मामले का एक सप्ताह बाद शांत हो गया। परिजनों की अधिकांश मांगों पर सहमति प्रदान कर दी। इसके बाद परिजन पोस्टमार्टम कराने को राजी हो गए। इस मामले में लोहावट थानाधिकारी व एक कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है। जबकि तीन पुलिस कांस्टेबल को लाइन हाजिर किया गया है। मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी देने के साथ ही बीस लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

पुलिस का कहना है कि 24 दिसंबर को राजू नायक को अनूपगढ़ से पकड़ क़र लोहावट ला रहे थे, बीच रास्ते में तबीयत बिगड़ऩे पर उसे जोधपुर एमडीएमएच में भर्ती कराया, जहां मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि पुलिस की पिटाई से राजू की मौत हुई। तब से परिजन अनूपगढ़ व लोहावट में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। 4 दिन तक लोहावट में धरने पर कोई सुनवाई नहीं होने पर वहां से पैदल ही जोधपुर रवाना हो गए। गुरुवार को पैदल जत्था मथानिया पहुंचा। इससे पहले ओसियां में पुलिस प्रशासन ने फिर से वार्ता की मगर कोई हल नहीं निकला।

कलेक्टर और एसपी से हुई बात

इस आंदोलन की अगुवाई कर रहे सीताराम नायक ने बताया कि आज जिला कलेक्टर इंद्रजीतसिंह व एसपी अनिल कयाल के साथ हुई वार्ता के बाद उनकी अधिकांश मांगों पर सहमति बन गई। राज्य सरकार ने थानाधिकारी केसाराम बांता व कांस्टेबल रूपाराम को सस्पेंड कर दिया। तीन कांस्टेबलों को लाइन हाजिर कर दिया। सीताराम के अनुसार अन्य सभी मांगों पर सहमति बन गई।

पोस्टमार्टम प्रकिया आरंभ

अब मथानिया में पैदल मार्च को रोक दिया गया है। कुछ लोग मोर्चरी पर आए हैं। शेष को गांव भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews