drm-did-window-inspection-of-jodhpur-ratangarh-rail-section-2

मुख्यमंत्री के निर्देश पर जोधपुर जिले में पेयजल प्रबन्धन तंत्र सुदृढ़ करने पर फोकस

  • प्रभारी मुख्य अभियन्ता मनीष बेनीवाल ने किया जलापूर्ति व्यवस्था का अवलोकन
  • पेयजल वितरण तंत्र की प्रभावशाली जाँच एवं सुधार कार्य की समीक्षा -सुधार के दिए निर्देश

जोधपुर,जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के मुख्य अभियन्ता(शहर एवं एनआरडब्ल्यू) जयपुर मनीष बेनीवाल ने जोधपुर जिले में पेयजल प्रबन्धन एवं वितरण से जुड़ी तमाम व्यवस्थाओं का अवलोकन किया और जलापूर्ति व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए।

हाल ही मुख्यमंत्री गहलोत के जोधपुर प्रवास के दौरान जनप्रतिनिधियों एवं आम जन से प्राप्त पेयजल संबंधित ज्ञापनों तथा सामने आयी समस्याओं के त्वरित निस्तारण के उद्देश्य से मुख्यमंत्री कार्यालय के निर्देशों पर जोधपुर जिले के प्रभारी मुख्य अभियन्ता मनीष बेनीवाल ने जोधपुर जिले का दौरा कर वस्तुस्थिति जानी।

प्रभारी मुख्य अभियन्ता ने जोधपुर में नगरीय,ग्रामीण तथा परियोजना से संबंधित कार्यों के लिए अतिरिक्त मुख्य अभियन्ता से लेकर कनिष्ठ अभियन्ता तक विभाग के सभी श्रेणियों के अधिकारियों के साथ पेयजल से संबंधित व्यवस्थाओं का अवलोकन किया, पेयजल प्रबन्धन एवं इससे संबंधित विभिन्न श्रेणियों के अधिकारियों के साथ विस्तार से चर्चा की और पेयजल से संबंधित एक-एक बिन्दु की समीक्षा की।

उन्होंने संबंधित अधिकारियों को पेयजल आपूर्ति व्यवस्था में सुधार लाते हुए पेयजल प्रबन्धन से जुड़ी तमाम गतिविधियों को सुदृढ़ स्वरूप प्रदान करने के निर्देश दिए। अधिकारियों से कहा कि अपने-अपने कार्यक्षेत्रों में समस्याग्रस्त क्षेत्रों में जलापूर्ति में सुधार के लिए आवश्यक प्रस्ताव बनाकर तुरन्त स्वीकृति के लिए आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करें।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशानुसार सरदारपुरा, सूरसागर एवं जोधपुर शहर विधानसभा के सम्बन्धित क्षेत्रों में पेयजल वितरण व्यवस्था को सुदढ करने लगभग 1 करोड़ रुपए लागत के विभिन्न कार्य स्वीकृत किए गए हैं। उन्होंने स्वीकृत प्रस्तावों पर अविलम्ब कार्यवाही करते हुए इनके क्रियान्वयन के निर्देश दिए।

प्रभारी मुख्य अभियन्ता बेनीवाल ने सभी विभागीय अधिकारियों को पेयजल वितरण व्यवस्था की रोजाना जाँच कर निर्बाध एवं नियमित तथा स्वच्छ जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिये निर्देशित किया। उन्होंने आगामी ग्रीष्मकाल तथा इंदिरा गांधी मुख्य नहर की प्रस्तावित नहरबंदी (2023) को देखते हुए जोधपुर शहर के लिये कायलाना,तख्तसागर एवं सुरपुरा में निर्धारित समय से पूर्व पर्याप्त जल संग्रहण की दृष्टि से लिये आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिये निर्देश दिए, ताकि निर्बाध एवं नियमित पेयजल वितरण जारी रह सके।

जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग नगर वृत्त जोधपुर के अधीक्षण अभियंता जगदीश चन्द्र व्यास ने बताया कि समीक्षा के दौरान मुख्य अभियन्ता ने जोधपुर जिले की जलापूर्ति की व्यवस्था में सुधार के लिये वर्तमान में प्रस्तावित शहरी (अमृत-2 जल योजना) व ग्रामीण क्षेत्रों विभिन्न योजनाओं (जल जीवन मिशन) के तहत स्वीकृत योजनाओं के कार्य की प्रगति पर चर्चा करते हुए कार्य की गुणवत्ता बनाये रखने और कार्यों को समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिए और चेतावनी दी कि इसमें किसी भी तरह की लापरवाही सामने आने पर जिम्मेदार अभियन्ताओं के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन डाउनलोड करें-http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews