जिला कलेक्टर ने लिया पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव की तैयारियों का जायजा

जिला कलेक्टर ने लिया पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव की तैयारियों का जायजा

जोधपुर, जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने 7 जनवरी से आरम्भ होने वाले पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव 2022 की तैयारियों की व्यवस्थाओं का अवलोकन किया। उत्सव संयोजक सुनील परिहार ने जिला कलेक्टर को उत्सव सम्बन्धी तैयारियों और नवाचार से अवगत कराया।

उत्सव संयोजक सुनील परिहार ने बताया कि उत्सव में आयोजकों ने आगंतुकों को आकर्षित करने के लिए जोधपुर के घंटाघर, मेहरानगढ़, सोजती गेट और ओशियन थीम पर बने पंडाल सजाये हैं। उन्होंने जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह को उत्सव स्थल में बन रहे सोजती गेट का मॉडल दिखाया जहाँ से प्रवेश लेकर आगंतुक मेले में आएंगे। उन्होंने जिला कलेक्टर को मेटल स्क्रैप से बनी गाँधी जी की प्रतिमा के विषय में भी जानकारी दी जो लगभग 22 से 23 फ़ीट लम्बी होगी, जिसके आगे विशालकाय चरखा होगा। उत्सव प्रांगण का अवलोकन करवाते हुए सुनील परिहार ने जिला कलेक्टर को बताया कि उत्सव में 700 स्टाल्स होंगी जिनमें से 60 सरकार द्वारा प्रायोजित होंगी। उन्होंने जिला कलेक्टर को वह स्थल भी दिखाए जहाँ राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों से आये शिल्पी अपनी कला और कौशल का लाइव प्रेजेंटेशन देंगे।

जिला कलेक्टर ने लिया पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव की तैयारियों का जायजा

ओशियन थीम पर बना पंडाल होगा अनोखा

जिला कलेक्टर ने उत्सव के निरीक्षण के दौरान ओशियन थीम पर बने पंडाल का भी अवलोकन किया और दिल्ली से आये ग्राफिटी आर्टिस्ट से विस्तार से चर्चा की। उन्होंने जिला कलेक्टर को बताया की इस पंडाल में एक 35 फ़ीट लम्बी ब्लू व्हेल होगी, आकर्षक लाइट्स होंगी जो पंडाल में बने आकर्षक चित्रों को 3डी इफ़ेक्ट देंगी। साथ ही इस पंडाल में अंडर वाटर ग्रास और आर्टिफिशियल प्रॉप्स का भी प्रयोग किया जायेगा।

हस्तशिल्प उत्सव में राजस्थान करेगा शक्ति प्रदर्शन

जिला कलेक्टर ने बताया की उद्योग जगत में राजस्थान ने हमेशा अपनी कला और कौशल का लोहा मनवाया है,अपनी इसी विशिष्टता का प्रदर्शन इस उत्सव के माध्यम से किया जायेगा, उत्सव के एक पंडाल में राजस्थान के मुख्य और सफल मॉडल्स को प्रदर्शित किया जायेगा। सुनील परिहार ने जिला कलेक्टर को बताया की इस उत्सव के पंडाल में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनी लगायी जाएगी, जिनमें हस्तशिल्प के इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट्स को दिखाया जायेगा। उन्होंने बताया की पंडाल में आयुर्वेद विश्वविद्यालय, नाबार्ड, डीओ आईटी,सुचना एवं जनसम्पर्क विभाग, काजरी, आफ़री, डीआरडीओ जैसे विभिन्न विभाग भी अपने काम और कौशल को प्रदर्शित करेंगे।

उत्सव में होगी द्विस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था

उत्सव संयोजक सुनील परिहार ने जिला कलेक्टर को बताया कि पश्चिमी राजस्थान के इस भव्य उत्सव में सुरक्षा व्यवस्था को भी पुख्ता रखा गया है। उन्होंने बताया की द्विस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस विभाग के साथ-साथ प्राइवेट एजेंसी को भी रखा जायेगा। उत्सव के पूरे प्रांगण में पर्याप्त सीसीटीवी कैमरों द्वारा निगरानी रखी जाएगी। उत्सव स्थल पर इमरजेंसी एक्सिटस के साथ चौबीस घंटे फायरब्रिगेड,वाॅच टाॅवर, मेडिकल टीम और सुरक्षा दल भी उपस्थित रहेंगे। निरीक्षण के दौरान जिला कलेक्टर के साथ डीसीपी (पश्चिम) दिगंत आनंद भी उपस्थित थे। जिला कलेक्टर ने उत्सव के मुख्य द्वार से लेकर निकास तक पूरे प्रांगण का दौरा किया तथा उत्सव की सुरक्षा व्यवस्था का संज्ञान लिया।

वीआईपी पंडाल में होंगी आवशयक सुविधाएं

जिला कलेक्टर ने उत्सव स्थल के निरीक्षण के दौरान वीआईपी पंडाल का भी अवलोकन किया, जहाँ आगंतुकों के बैठने की उचित व्यवस्था,मेडिकल कार्नर,मीटिंग हॉल,सेमिनार हॉल जैसे सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

सार्वजानिक सुविधाओं के लिए दिए दिशा निर्देश

जिला कलेक्टर ने उत्सव की व्यवस्थाओं के निरीक्षण के दौरान सम्बंधित को निर्देश दिए कि इतने बड़े आयोजन को ध्यान में रखते हुए सार्वजानिक सुविधाओं का विशेष रूप से ध्यान रखा जाये, उन्होंने इस सम्बन्ध में सार्वजनिक निर्माण विभाग और निगम को परस्पर सहयोग कर उचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

ट्रैफिक व पार्किंग के होंगे पर्याप्त इंतज़ाम

इस दस दिवसीय उत्सव में ट्रैफिक और पार्किंग की भी पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है। जिला कलेक्टर ने उत्सव की व्यवस्थाओं के अवलोकन के दौरान इस बात पर विशेष ध्यान दिया की उत्सव स्थल और उसके आस-पास की यातायात व्यवस्था सुगम रहे ताकि यहाँ आये आगन्तुक और शहर के आमजन को किसी प्रकार की परेशानी न उठानी पड़े।

कोरोना गाइडलाइन्स की पालना होगी सुनिश्चित

जिला कलेक्टर ने उत्सव के निरक्षण के दौरान कोरोना गाइडलाइन्स की पालना को सुनिश्चित करवाए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा की उत्सव में आये सभी आगंतुक सोशल डिस्टन्सिंग,मास्क और नियमित सैनिटाईज़ेशन की पालना करेंगे। उत्सव संयोजक सुनील परिहार ने जिला कलेक्टर को बताया कि उत्सव में एक स्टाल विशेष रूप से कोरोना टीकाकरण के लिए लगवाई जाएगी, एक मेडिकल टीम भी चैबीस घंटे प्रांगण में उपस्थित होगी।

जिला कलेक्टर ने निर्देशित किया कि उत्सव में सरकार द्वारा जारी की गयी गाइडलाइन्स की पालना से यहाँ आये आगंतुक भयमुक्त होकर उत्सव का लाभ उठा पाएंगे। जिला कलेक्टर ने उत्सव स्थल पर हो रही तैयारियों पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि जिला प्रशासन, जिला उद्योग एवं वाणिज्य केन्द्र,उद्यम प्रोत्साहन संस्थान एवं नोडल एजेंसी मरूधरा इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित होने वाला यह शीर्ष उत्सव आगामी 7 जनवरी को आरंभ होगा तथा 16 जनवरी तक आयोजित किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशानुसार उत्सव का मुख्य उद्देश्य राजस्थान की औद्योगिक गतिविधियों को वैश्विक पटल पर प्रदर्शित करना है। उन्हें पूरा विश्वास है कि पश्चिमी राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव 2022 का आयोजन हर बार से अलग और उत्कृष्ट होगा। इसके लिए एमआइए टीम,पुलिस,निगम आपसी समन्वय से कार्य करें। जिला कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान जिला उद्योग केन्द्र के संयुक्त निदेशक एसएल पालीवाल,अतिरिक्त आयुक्त नगर निगम राकेश कुमार गढवाल आदि अधिकारी उपस्थित थे।

दूरदृष्टिन्यूज़ की एप्लिकेशन अभी डाउनलोड करें – http://play.google.com/store/apps/details?id=com.digital.doordrishtinews