1303 new infected found in Jodhpur, 18 deaths

जोधपुर, कोरोना के ज़ाल में जकड़े जोधपुर को मंगलवार को कुछ राहत मिली। जोधपुर में मंगलवार को 1303 नए संक्रमित मिले और 18 लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही जोधपुर में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या एक लाख के आंकड़े को पार कर गई। आज 1453 मरीजों को ठीक होने पर डिस्चार्ज किया गया। जोधपुर में अब 25002 एक्टिव केस हैं।

जोधपुर में अब तक 1 लाख 1,041 संक्रमित मिल चुके हैं। इसमें से 75,169 मरीज ठीक हो चुके हैं। 6.219 संक्रमितों की जांच की गई। इसमें से 1303 नए संक्रमित निकले। आज संक्रमण की दर 20.95 फीसदी रही। जोधपुर में कल अब तक की सबसे अधिक 49.64 फीसदी संक्रमण दर दर्ज की गई थी।

कोरोना संक्रमितों की मौतों का क्रम थमने या धीमा पडऩे का नाम नहीं ले रहा है। आज भी 18 लोग अपनी जान गंवा बैठे। मई के 11 दिन में 355 लोगों की मौत हो चुकी है। इस अवधि में 22,873 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें से 18,398 मरीज ठीक हो चुके हैं। जोधपुर में एक्टिव केस लगातार 25 हजार से अधिक बने हुए है। इस कारण अस्पतालों पर दबाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

विवाह की वर्षगांठ को बनाया यादगार, कोरोना काल में दंपती ने किया रक्तदान

शहर में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के चलते आए दिन रिकॉर्ड तोड़ संक्रमित आ रहे हैं। मौतें थमने का नाम नहीं ले रहीं। अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, इंजेक्शन सब कम पड़ रहे हैं। जिनके परिजन हॉस्पिटल में है, वे बेहद पीड़ादायक दशा से गुजर रहे हैं।

कोरोना की दूसरी लहर कितनी जानलेवा है, इसका अंदाजा इस बात से लगा लेना चाहिए कि मई के 11 ही दिनों में सरकारी अस्पतालों में भर्ती 355 संक्रमितों ने दम तोड़ दिया। हकीकत में तो यह आंकड़ा बहुत अधिक है, क्योंकि कई लोग निजी अस्पतालों में दम तोड़ रहे हैं। होम आइसोलेशन में भी कई लोगों की मौत हो रही है। इन मौतों का कोई आंकड़ा सरकार के पास नहीं है। मई के अभी 21 दिन और बाकी हैं।

पहली लहर 9 महीने 11 दिन चली। यानि 21 मार्च 2020 से लेकर 31 दिसंबर 2020 तक। इसमें 853 की मौत हुई। यानि औसत हर दिन 2-3 मौतें हुईं। अब 4 माह 10 दिन (130 दिन) में 781 से अधिक मौतें हो चुकी है। यानि औसत 5 मौत प्रतिदिन हो रही है। मई के 10 दिन में 202 पुरुष और 135 महिलाओं की मौत हुई है। आयुवर्ग के हिसाब से देखें तो 0-30 आयुवर्ग में 20 मौतें हुईं। इनमें 10 पुरुष और 10 महिलाएं हैं। 31-60 आयुवर्ग में कुल 163 मौत हुई जिसमें 97 पुरुष 66 महिलाएं थी। 61-से अधिक आयुवर्ग में 154 मौतें हुईं, इनमें 95 पुरुष और 59 महिलाएं हैं।